शैव महोत्सव में बोली उमा, मेरा जीवन मोगली की तरह

On Date : 07 January, 2018, 1:07 PM
0 Comments
Share |

उज्जैन, ब्यूरो
केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने अपने जीवन की तुलना जंगल बुक के पात्र मोगली से करते हुए कहा है कि मेरा जीवन मोगली की तरह है। मैं भी उसी तरह करतब करती हूं। आज उज्जैन के उदासीन अखाड़े में आयोजित तीन दिवसीय शैव महोत्सव के समापन अवसर पर उन्होंने कहा कि मैं भी मोगली की तरह करतब करती हूं और लोग विशिष्टता समझते हैं। उमा ने यह बात विनोदपूर्ण लहजे में कही। उन्होंने शैव महोत्सव की तारीफ करते हुए कहा कि अब यह आयोजन फिर 12 साल बाद यहां होगा। उमा भारती ने कहा कि भारत विश्व में एक मात्र ऐसा देश है जिसने अपने धर्म और संस्कृति को नहीं छोड़ा है, यहां की धरती पर कोई राज कर सकता है पर मन पर नहीं।
हमें सभी प्रकार के भेदों को मिटाना है: भैयाजी
संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने कहा कि जागृत हिंदू समाज संसाद का मार्गदर्शन करेगा। भारत की शक्ति हमेशा संरक्षक रही है। हम विश्व में शस्त्र नहीं शास्त्र लेकर गए हैं। उन्होंने कहा कि भारत भूमि अध्यात्म एवं योग की है। यहां का जीवन मूल्यों पर चलता है। शैव महोत्सव समाज प्रबोधन, समाज जागरण का उत्सव है। इससे हमें सभी प्रकार के भेदों को मिटाना है।
अगला महोत्सव सोमनाथ में
अगले शैव महोत्सव का आयोजन गुजरात के सोमनाथ में किया जाएगा। आज कार्यक्रम में सोमनाथ से आए प्रतिनिधियों को शैव महोत्सव का चांदी का ध्वज भेंट किया गया।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार