प्रदेश से लेकर केंद्र तक ताकत लगा रही भाजपा

On Date : 03 April, 2017, 5:17 PM
0 Comments
Share |

अटेर में जीत के लिए पसीना बहा रहे दिग्गज नेता
प्रदेश टुडे संवाददाता, ग्वालियर
अटेर उपचुनाव में परचम फहराने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश से लेकर केन्द्र तक की ताकत झौंक दी है। सत्ता के स्तर पर केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से लेकर सूबे की सरकार के करीब दर्जन भर मंत्री अब तक चुनावी रण में उतर चुके हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी दो बार भाजपा प्रत्याशी के प्रचार के लिए कई आमसभाएं ले चुके हैं।

वहीं संगठन की ओर से पार्टी के राष्टÑीय उपाध्यक्ष व राज्यसभा सांसद प्रभात झा इन दिनों अटेर में डेरा डाले हुए हैं। इनके अलावा भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान सहित तमाम पार्टी पदाधिकारी एवं दिग्गज नेता गांव-गांव जाकर पसीना बहा रहे हैं। खास बात ये है कि प्रदेश सरकार की वरिष्ठ मंत्री श्रीमती मायासिंह, जयभान सिंह पवैया, डॉ. नरोत्तम मिश्रा, रुस्तम सिंह, लाल सिंह आर्य, भूपेन्द्र सिंह सहित कई मंत्री, विधायक, निगम-मंडल व प्राधिकरणों के अध्यक्ष व चेयरमैन आदि बीजेपी की जीत के लिए लगातार दम लगा रहे हैं।

 कल बीजेपी का महाजनसंपर्क अभियान
बूथ लेबल कार्यकर्ताओं को कमान: नंदकुमार
अटेर के चुनाव प्रचार के लिए भाजपा चार अप्रैल को विशेष अभियान चलाएगी। इस दिन बूथ लेबल पर जनसंपर्क किया जाएगा। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के मुताबिक मंगलवार को मतदान केन्द्र स्तर पर स्थानीय कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों से संपर्क करेंगे और भाजपा की जीत के मायने बताएंगे। इस संबंध में रविवार को मतदान केन्द्र स्तर पर जिम्मेदार कार्यकर्ताओं का सम्मेलन बुलाया गया। इस दौरान बूथ लेबल कार्यकर्ताओं का टास्क दिया गया है कि उनके क्षेत्र कोई भी घर या कोई भी व्यक्ति संपर्क से छूटना नहीं चाहिए।

बसपा करेगी कांग्रेस का प्रचार !
ईवीएम कांड के बाद पूरे देश में निगाहें अटेर के उपचुनाव पर लगी हुई हैं। इस बीच अंदरखाने की खबर है कि बहुजन समाज पार्टी कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में चुनाव प्रचार कर सकती है। तालमेल की चर्चाओं के चलते बीएसपी के कु छ नेताओं के इस दौरान अटेर पहुंचने के आसार हैं। इस खबर में वजन इसी से है कि बहुजन समाज पार्टी ने अटेर के चुनावी समर में अपना प्रत्याशी खड़ा नहीं किया है। राजनीतिक पंडितों का कहना है कि सत्यदेव कटारे के निधन के बाद से ही कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं ने दलित वोटों के ध्रुवीकरण के साथ (कांग्रेसी वोट+दलित-मुस्लिम+सिंपैथी=जीत) के फार्मूले पर होमवर्क शुरू कर दिया था। इसी कड़ी में बसपा के बड़े नेताओं से तालमेल कर जीत को कांग्रेस की झोली में डालने का पूरा प्रयास किया जा रहा है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार