भागवत कथा के श्रवण से होता है पापों का नाश

On Date : 13 January, 2018, 3:30 PM
0 Comments
Share |

जबलपुर: श्रीमद् भावगत कथा मोक्ष दायिनी है, जिसके श्रवण मात्र से जीव के सभी पापों का नाश हो जाता है। पाप मुक्त होकर जीव सीधे परम पिता परमात्मा के श्रीचरणों में अपना स्थान सुनिश्चित कर लेता है और उसका कल्याण हो जाता है। इसलिए कलयुग में जहां भी भागवत कथा हो उसका श्रवण करना चाहिए। उक्ताशय के उद्गार पं.मुकेश शास्त्री कन्हैया महाराज ने गोल बाजार प्रांगण में आयोजित 108 श्रीमद् भागवत कथा के दौरान व्यास पीठ से व्यक्त किए। कथा के पूर्व व्यासपीठ का पूजन अर्चन जगतबहादुर सिंह अन्नू, अमित खंपरिया, संतोष मिश्रा एवं विकास शर्मा ने किया। कथा स्थल पर प्रतिदिन 108 ब्राम्हणों द्वारा भागवत कथा का परायण पाठ एवं रुद्राभिषेक कराया जा रहा है। पूजन उपरांत दोपहर में भंडारे का प्रसाद वितरण किया गया।  

श्रीराम कथा पर मंदाकिनी दीदी के प्रवचन आज से
जबलपुर। श्री ठाकुर बिहारी जी महाराज कुचैनी ट्रस्ट द्वारा एमजीएम मैरिज गार्डन दमोहनाका में आज से श्रीराम कथा का आयोजन किया जा रहा है। राम कथा में प्रतिदिन शाम को 6.30 से रात्रि 8.30 बजे तक मानस मर्मज्ञ पं.रामकिंकर महाराज की कृपा पात्र मंदाकिनी दीदी प्रवचन करेंगी। मंदाकिनी दीदी अपने प्रवचनों में इस बार ‘प्रदूषण समस्या के लिए जिम्मेदार कौन है और इसका क्या समाधान है’ जैसे विषयों पर अपने उद्बोधन देंगी।
श्रीराम कथा प्रसंग पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए श्रीरामचरिम मानस एवं गोस्वामी तुलसीदास जी के गूढ़ रहस्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास जी दूरदृष्टा थे। कलयुग में मन:स्थित एवं वातावरण पर होने वाले दुष्प्रभाव को उन्होंने भांप लिया था। आयोजन समिति ने शहर के धर्म प्रेमियों से कथा में उपस्थित होकर धर्म लाभ लेने का आग्रह किया है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार