प्रमोटी अफसर के हाथ बैंक की कमान

On Date : 14 February, 2018, 4:18 PM
0 Comments
Share |

रेलवे के ईसीसी बैंक में उड़ रही नियमों की धज्जियां

प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर
पमरे की सत्ताधारी यूनियन के इशारे पर चल रही ईसीसी बैंक की बागडोर ऐसे रेल अधिकारी के हाथ में है जिसका अब यूनियन से दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं है। इसके बाद भी यूनियन उसे हटाना नहीं चाहती। इससे यूनियन के अन्य डेलीगेट्स और मेम्बरों में भारी आक्रोश है।
जानकारी के मुताबिक पमरे में एम्पलाइज यूनियन का वर्चस्व है। यूनियन ने दो साल पहले डेलीगेट विनोद राय को ईसीसी बैंक का डायरेक्टर बनाया था। उस समय डेलीगेट होने के साथ-साथ विनोद राय मुख्य रेल चिकित्सालय में मुख्य फार्मासिस्ट थे। बाद में उनका प्रमोशन सहायक रेल भेषज अधिकारी पद पर हो गया। अधिकारी बनने के बाद डायरेक्टर बने रहना बैंक नियम के विरुद्व बताया जाता है।

मेरी लाठी मेरी भैंस
बताया जाता है कि वर्तमान में सत्ताधारी यूनियन का रवैया ईसीसी बैंक मामले में मेरी लाठी मेरी भैंस जैसा है। इससे रेलकर्मियों में आक्रोश पनप रहा है। रेलकर्मियों का कहना है कि विनोद राय उस समय डायरेक्टर बने थे जब वे रेल चिकित्सालय में फार्मेसिस्ट थे, अब सहायक भेषज अधिकारी बनने के बाद उक्त पद पर जमे रहना नियम विरुद्व है। जबकि यूनियन में कई इंटेलीजेंट डेलीगेट है, जिन्हें बैंक का डायरेक्टर बनाने से जहां रेलकर्मियों की समस्याओं का समय पर समाधान होगा वहीं यूनियन भी मजबूत होगी। खास बात यह है कि यह सब जानने के बाद एम्पलाइज यूनियन के पदाधिकारी मौन साधे हैं।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार