छत्तीसगढ़: राज्यसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी सरोज पांडे की हुई जीत

On Date : 23 March, 2018, 6:43 PM
0 Comments
Share |

रायपुर: छत्तीसगढ़ की एक राज्यसभा सीट पर बीजेपी की जीत हुई है. बीजेपी प्रत्याशी सरोज पांडे को 90 में से 51 सीटें मिली हैं. हैरानी वाली बात यह है कि बीजेपी के अपने 49 विधायक हैं, जबकि एक निर्दलीय विधायक विमल चोपड़ा का भी उसे समर्थन प्राप्त था. लेकिन, 51वां वोट किस विधायक ने दिया यह कांग्रेस के लिए हैरान कर देने वाला जरूर होगा. कांग्रेस के लेखराम साहू को 36 वोट मिले हैं. कांग्रेस के कुल 39 विधायक थे, जिनमें से 3 विधायकों ने वोट नहीं डाला.
गणित के हिसाब से बसपा का मत बीजेपी को
छत्तीसगढ़ में विधानसभा की 90 सीटें हैं. बीजेपी के 49 विधायक हैं. कांग्रेस के 39 विधायक हैं, जिनमें अमित जोगी को पार्टी ने निष्कासित कर दिया गया है. बसपा के एक विधायक हैं, जबकि एक निर्दलीय विधायक हैं. कांग्रेस के तीन विधायकों (अमित जोगी को शामिल कर) ने वोटिंग नहीं की. इस तरह कांग्रेस प्रत्याशी लेखराम साहू को अपने सभी 36 विधायकों का मत हासिल हुआ. निर्दलीय विधायक विमल चोपड़ा पहले ही बीजेपी के समर्थन का ऐलान कर चुके थे. बसपा विधायक के समर्थन की मांग को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) प्रमुख भूपेश बघेल ने बसपा प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश बाजपेई से फोन पर बात भी की थी. लेकिन गणित के हिसाब से बसपा का वोट बीजेपी को जाती दिख रही है.
सुबह 9 बजे से शुरू हुए मतदान के बाद प्रमुख घटनाक्रम
क्रॉस वोटिंग रोकने के लिए सभी विधायकों के साथ विधानसभा पहुंचे रमन सिंह
मतदान के शुरू होते ही बीजेपी ने कांग्रेस विधायक अनिला भेड़िया के मत पर आपत्ति जताई. बीजेपी के पोलिंग एजेंट शिवरतन शर्मा ने कांग्रेस विधायक अनिला भेड़िया के मत पर आपत्ति जताई और निर्वाचन अधिकारियों से अनिला भेड़िया के मत को खारिज करने की मांग की. बीजेपी का आरोप था कि वोट डालने के बाद उन्होंने हाथ उठाकर गुप्त मतदान का उल्लंघन किया है. बीजेपी विधायक शिवरतन शर्मा ने निर्वाचन अधिकारियों से कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया के तहत मतदाता केवल अपने पोलिंग एजेंट को ही मत दिखा सकता है. लेकिन, अनिला भेड़िया ने मत डालने के बाद अपना मत सार्वजनिक कर दिया. मैंने खुद उनका मत देखा है. इसको लेकर ही निर्वाचन अधिकारियों से शिकायत की गई है.
 हालांकि, निर्वाचन अधिकारी ने बीजेपी की मांग को खारिज कर दिया और अनिला भेड़िया की वोटिंग को वैध माना.
दोपहर 12 बजे कांग्रेस से निष्कासित मरवाही विधायक अमित जोगी (अजीत जोगी के बेट) और कांग्रेस के दो विधायक आरके राय और सियाराम कौशिक ने वोटिंग से पहले कहा कि कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया पहले अपने बयान को लेकर माफी मांगे, नहीं तो हम अपना वोट नहीं देंगे. नाराज विधायकों ने कहा कि पीएल पुनिया ने छत्तीसगढ़िया का अपमान किया है.

तीनों विधायकों ने कहा कि अगर, दोपहर 3:30 बजे तक पीएल पुनिया और प्रदेश कांग्रेस प्रमुख, भूपेश बघेल की तरफ से माफीनामा नहीं आता है तो हम तीनों विधायक वोट नहीं डालेंगे. बता दें, पीएल पुनिया ने अजीत जोगी को जयचंद कह दिया था.
प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से माफीनामे वाले प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया गया. PCC की तरफ से माफीनामा को लेकर किसी तरह का जवाब नहीं दिया गया.

 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार