केंद्र असम से बंगालियों को निकालने की साजिश ...ममता

On Date : 03 January, 2018, 8:29 PM
0 Comments
Share |

अहमदपुर : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार पर बुधवार (3 जनवरी) को राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के पहले मसौदे में बंगालियों के नाम हटाकर उन्हें असम से बाहर करने की ‘साजिश’ रचने का आरोप लगाया. असम में अवैध प्रवास पर रोक लगाने के लिए मूल निवासियों की पहचान के वास्ते उच्चतम न्यायालय की निगरानी में 1951 के एनआरसी को अद्यतन बनाया जा रहा है. पहला मसौदा 31 दिसंबर की रात को प्रकाशित हुआ. ममता बनर्जी ने यहां एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘लोग वहां (असम में) काम करने गये हैं. एनआरसी के नाम पर वे उन्हें खदेड़ रहे हैं. मैं केंद्र की भाजपा सरकार को आग से नहीं खेलने की चेतावनी देती हूं. उसे बांटो और राज करो की नीति पर नहीं चलना चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘‘यह करीब 1.80 करोड़ लोगों को राज्य से खदेड़ने की केंद्र सरकार की साजिश है.’’ उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों के लोग रोजी रोटी के लिए जाते हैं जो उनका हक है तथा, ‘‘धीरे धीरे वे वहां बस जाते हैं जैसे कि अन्य राज्यों के लोग पश्चिम बंगाल में रह रहे हैं और ठहरे हुए हैं.’’ ममता बनर्जी ने कहा, ‘‘हम लोगों के पक्ष में आवाज उठाते रहेंगे और यदि उन्हें कुछ हुआ तो हम चुप नहीं रहेंगे.’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि असम में समस्या खड़ी होती है तो उसका बंगाल पर असर होगा, लेकिन हम बंगाल में रह रहे असमी को हृदय से लगाकर रखेंगें.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तीन तलाक पर लाये गए विधेयक को ‘दोषपूर्ण’ बताते हुए कहा कि इससे मुस्लिम महिलाओं को फायदा से अधिक नुकसान होगा. उन्होंने भाजपा पर मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक को लेकर ‘राजनीति करने’ का आरोप लगाया जो हाल ही में लोकसभा में पारित हुआ. ममता ने यहां एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘हमने तीन तलाक विधेयक का विरोध इसलिए नहीं किया कि यह महिलाओं से संबंधित है. मुझे मालूम है कि कई मुसलमान नियमों से बंधे हुए हैं. भाजपा सरकार द्वारा लाया गया यह विधेयक दोषपूर्ण है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुस्लिम महिलाओं के संरक्षण की बजाय यह उन्हें नुकसान पहुंचाएगा. भाजपा इस विधेयक को लेकर निचले स्तर की राजनीति कर रही है.’’ ममता ने दावा कि उनकी तृणमूल कांग्रेस देश की एकमात्र ऐसी पार्टी है, जिसकी 33 प्रतिशत सांसद महिलाएं हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘बेटी बचाओ, बेटी पढाओ’ योजना की उपयोगिता पर सवाल उठाते हुए ममता ने कहा कि केंद्र इस योजना पर पूरे देश में 100 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है, जबकि पश्चिम बंगाल सरकार केवल ‘कन्याश्री’ योजना पर 5,000 करोड़ रुपये खर्च कर रही है.

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार