पंचकोश का विकास कर स्कूल तैयार करें महामानव: राज्यपाल

On Date : 16 April, 2018, 3:32 PM
0 Comments
Share |

ITM ग्लोबल स्कूल के नवनिर्मित स्पोर्ट्स फेसिलिटी ग्राउंड का उद्घाटन
ग्वालियर
। एक व्यक्ति में सिर्फ बुद्धि ही नहीं, मन, शरीर, प्राण व आत्मा होती है। इन सबका बराबरी से विकास बहुत जरूरी है। महर्षि दयानंद ने भी इन्हीं पंचकोश की बात कही थी कि इनके विकास से ही व्यक्ति सम्पूर्ण बनता है। फिर वह मानव नहीं महामानव बन जाता है। स्कूलों में जरूरत है कि वे इन पंचकोशो का समुचित विकास कर समाज के लिए महामानव तैयार करें क्योंकि देश की तकदीर बनाने का काम शिक्षा संस्थान करते हैं। स्वतंत्रता के बाद हर आयोग ने एक ही बात कही कि समाज या देश का भविष्य देखना है तो स्कूल के क्लास रूम में जाकर देखो। आज जब मैं यहां कम समय में ही आईटीएम ग्लोबल स्कूल का अतुल्यनीय विकास व यहां के बच्चों का व्यक्तित्व विकास देख रहा हूं तो मुझे लगता है कि देश बहुत आगे जाएगा। यहां बच्चों के चहुंमुखी विकास पर जोर दिया जा रहा है, उन्हें सहज सरल व प्रायोगिक तरीके से शिक्षा ग्रहण करवाई जा रही है। कार्यक्रम का संचालन भी बच्चों द्वारा करवाना यह प्रतीत करता है कि उनमें लीडरशिप भी विकसित की जा रही है। अंतरराष्ट्रीय व ओलम्पिक मापदंडो में खरे उतरने वाले स्पोर्ट्स ग्राउंड तैयार करने से यहां सिर्फ इसी स्कूल के बच्चे ही नहीं बल्कि अन्य राज्यों व देशों के बच्चे भी खेल सकेंगे। दूसरे स्कूलों को भी इससे प्रेरणा लेनी चाहिए।
बच्चों को देश भविष्य और शिक्षण संस्थानों के बेहतर प्रयासों पर यह विचार थे हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी के। वे रविवार को आईटीएम ग्लोबल स्कूल के नविनिर्मित स्पोर्ट्स फेसिलिटी ग्राउंड का उद्घाटन करने पहुंचे। उनके स्कूल आगमन पर नवनिर्मित ग्राउंड के इंटरनेशनल साइज के स्केटिंग ट्रैक पर 18 स्टूडेंट्स ने रेस स्केटिंग व स्केट्स पहनकर अन्य हैरतअंगेज कारनामे दिखाए।
कम उम्र में ही स्केट्स पर उनकी षानदार परफार्मेंस ने सभी को हतप्रभ कर दिया। इसके बाद राज्यपाल ने स्कूल के नेषनल स्केटिंग चैम्पियन्स को पुरस्कृत भी किया। इनमें दीपक नारंग, जाह्नवी वाघ, क्षितिज गर्ग, मनीष गुप्ता, ष्षायली मिश्रा, श्रेया मिश्रा, तनिष्क, प्रियानी अग्रवाल, दृष्टि बंसल षामिल थे। इसके बाद बारी थी सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति की। जिसमें स्कूल की तीन छात्राओं ने भरतनाट्यम की मनमोहक प्रस्तुति दी। वहीं स्कूल के होनहार गायकों ने ह्णऐ मेरे मन तू करना ऐसे करम, चलना तू हर एक कदम, सच की डगर...ह्ण गाया।
आईटीएम ग्लोबल स्कूल की चेयरपर्सन रूचि सिंह चैहान ने ह्णइस मौके पर अपने उद्बोधन में कहा कि देष बदलन के साथ षिक्षा बदलने की भी जरूरत है। अब सम्पूर्ण व्यक्तित्व विकास के साथ नैतिक मूल्यों की तरफ भी ध्यान देना होगा। इसलिए अब हम स्कूल में करीकुलम, कोकरिकुलम व एक्स्ट्रा करीकुलम पर ज्यादा जोर दे रहे हैं। इनके बिना स्कूल की पढ़ाई ऐसी है जैसी आत्मा बिना षरीर। आज नेषनल लेवल पर ओलम्पिक साइज स्केटिंग रिंक तैयार करने पर यहां स्हपोर्ट्स की सारी फैसिलिटी भी पूरी हो चुकी है। स्कूलों में अनुभव के आधार पर सीखने का माहौल विकसित किया जाना जरूरी है इसलिए हमने एक्सपीरियंस बेस्ड लर्निंग ष्षुरू की है। वर्तमान में समाज के अंदर जो भी गलत हो रहा है वो षिक्षा से दूर हो सकता है। इसलिए स्कूलों का अच्छी सम्पूर्ण षिक्षा देना मकसद होना चाहिए वहीं अभिभावकों को भी अपने बच्चों को उनके सपने और रूचि पूरी करने के लिए थोड़ा फ्री छोड़ना चाहिए।ह्ण इस मौके पर आईटीएम यूनिवर्सिटी के चांसलर रमाषंकर सिंह, मैनेजिंग डायरेक्टर दौलत सिंह चैहान, आईटीएम ग्लोबल स्कूल के प्रिंसीपल अजयलाल, आईटीएम यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ केके द्विवेदी व रजिस्ट्रार डॉ ओमवीर सिंह उपस्थित रहे।  
5 लेन के साथ तैयार ओलम्पिक साइज स्केटिंग रिंक
आईटीएम ग्लोबल स्कूल में हाल ही में नवनिर्मित स्पोर्ट्स फेसिलिटी ग्राउंड तैयार किया गया है। इसमें सबसे ज्यादा खास है प्रदेष का पहला ओलम्पिक या इंटरनेषनल साइल स्केटिंग रिंक, जो 5 लेन में तैयार के साथ बनाया गया है। इसमें ब्रेकिंग सर्फेस भी बनाया गया है। जो इंटरनेषनल मापदंडो के अनुरूप है। ली मांटेसरी व प्रतिभाफूले एकेडमिक ब्लॉ से सटे हुए इस ग्राउंड में 6 लेन्स का 200 मीटर ट्रेक, वॉलीबॉल, कबड्डी व खो-खो कोर्ट्स भी यहां बनाए गए हैं। उल्लेखनीय है कि हॉर्स राइडिंग एरिना भी यहां बना हुआ है, जहां स्टूडेंट्स हार्स राइडिंग करते हैं। जल्द ही यहां अब एडवेंचर स्पोर्ट्स जोन भी बनाया जाने वाला है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार