डयूटी MLB में, पगार कुंडम ब्लॉक से

On Date : 13 October, 2017, 3:52 PM
0 Comments
Share |

अटैचमेंट को लेकर डीईओ आॅफिस में फिर फर्जीवाड़ा
प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर

डीईओ आॅफिस में ट्रांसफर कांड करने वाले अफसरों ने पैसा कमाने का एक नया तरीका ईजाद किया है। उक्त अफसर अब  गांव में पदस्थ  शिक्षक व भृत्यों को शहर के स्कूलों में अटैच कर जमकर माल काट रहे हैं। ताजा मामला कुंडम बीईओ आॅफिस का है जहां से एक प्यून को एमएलबी स्कूल में ट्रांसफर कहकर भेज दिया गया। दो माह तक नौकरी करने के बाद प्यून को वेतन नहीं मिला और इसका हल्ला शुरू हुआ तो डीईओ आॅफिस के साले-जीजा की जोड़ी ने उसका ट्रांसफर अटैचमेंट में बदल दिया। अब प्यून ड्यूटी तो एमएलबी स्कूल में करेगा, लेकिन उसे पगार कुंडम ब्लॉक से मिलेगी।

सालों से बाबू बना है हेडमास्टर
एमएलबी स्कूल में प्यून को अटैच करने का खेल आज से नहीं सालों से डीईओ आॅफिस में जारी है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि हेडमास्टर दमाले कई वर्षों से डीईओ आॅफिस में बाबू का कार्य देख रहा है, जबकि उसका मूल कार्य स्कूल की व्यवस्थाएं देखना है। अफसरों के कृपा पात्र एक व्याख्याता और सालों से अपने स्कूल से दूर रहकर विभागीय कार्यक्रमों के आयोजन में लगे रहते हैं।
इतना बड़ा घोटाला हुआ अफसरों को फर्क तक नहीं पड़ा
मप्र तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ अध्यापक प्रकोष्ठ के मुकेश सिंह, नितिन अग्रवाल, प्रणव साहू ने आरोप लगाते हुए बताया कि डीईओ की नाक के नीचे इतना बड़ा ट्रांसफर घोटाला हुआ, अपने चहेते शिक्षक और रिश्वत देने वालों को मनचाहे स्थान पर तबादला दिया गया और अधिकारियों को खबर तक नहीं लगी। डीईओ आॅफिस में साले-जीजा की जोड़ी घोटाले पर घोटाले करती जा रही है डीईओ को फर्क ही नहीं पड़ रहा है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार