पहलवान सुशील कुमार और उनके सर्मथकों के खिलाफ FIR

On Date : 30 December, 2017, 10:48 AM
0 Comments
Share |

नई दिल्ली : कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 के लिए क्वालिफाई करने में नाकाम रहे पहलवान प्रवीण राणा के साथ हुई मारपीट के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है. एफआईआर सुशील कुमार और उनके समर्थकों के खिलाफ दर्ज की गई है. आरोप हैं कि राणा के साथ मारपीट करने वाले दूसरे भारतीय पहलवान सुशील कुमार के समर्थक हैं. फिलहाल इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

दिल्ली के केडी जाधव स्टेडियम में भारतीय पहलवानों के बीच शुक्रवार को कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए क्वालिफाइंग मुकाबले हुए थे. इन मुकाबलों के 74 किलोग्राम में पहलवान सुशील कुमार अविजित रहते हुए कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए टिकट कटाने में सफल रहे थे. उन्होंने फाइनल में पहलवान जीतेंद्र कुमार को और सेमीफाइनल में प्रवीण राणा को हराया था. सेमीफाइनल मुकाबले के बाद सुशील और राणा के समर्थकों के बीच विवाद हो गया था.

इस मामले में आईपीसी (IPC) की धारा 323 और 341 के तहत शुक्रवार देर रात एफआईआर दर्ज की गई. सुशील और प्रवीण राणा के समर्थकों के बीच हुई जोरदार लड़ाई हुई थी. दोनों पहलवानों के समर्थकों के बीच यह हाथापाई केडी जाधव स्टेडियम में हुई. समाचार एजेंसी एएनआई ने ट्विटर पर इस लड़ाई का वीडियो भी शेयर किया था.

कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए हो रहे ट्रायल के दौरान सुशील कुमार ने सेमीफाइनल में पहलवान प्रवीण राणा को हराया था. दोनों पहलवानों के समर्थकों के बीच हाथापाई की नौबत तब आई जब सुशील से हारने के बाद राणा ने दावा किया कि सुशील के समर्थकों ने रिंग में उसके खिलाफ उतरने पर उसे और उसके बड़े भाई को मारा.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सुशील ने दावा किया कि मुकाबले के दौरान राणा ने उनपर हमला किया. सुशील ने कहा, 'उसने मुझे पीटा लेकिन कोई बात नहीं. यह मुझे अच्छा खेलने से रोकने की उसकी रणनीति होगी. यह खेल का ही हिस्सा है. जो कुछ हुआ था, वह गलत था. मैं इसकी निंदा करता हूं. मुकाबला खत्म होने के बाद हममें एक-दूसरे के लिए सम्मान था.' इन घटनाओं और बयानों के सामने आने के बाद दोनों पहलवानों के समर्थक आपस में भिड़ गए.

आपको बता दें कि दोनों पहलवानों के बीच पुरानी प्रतिद्वंद्विता है. सुशील ने कॉमनवेल्थ गेम्स के फाइनल में राणा को हराया था. राणा ने यह भी आरोप लगाया कि सुशील के समर्थकों ने उसे जान से मारने की धमकी दी और कहा है कि आगामी प्रो. कुश्ती लीग में खेलने की भूल न करें.

सुशील कुमार मे इस घटना की निंदा की थी. उन्होंने कहा था कि यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है और मैं इस घटना की कड़ी निंदा करता हूं. ऐसी किसी भी घटना के लिए खेल में कोई जगह नहीं है.

आपको बता दें कि सुशील कुमार का विवादों से पुराना नाता रहा है. इससे पहले वह एक और भारतीय पहलवान नरसिंह यादव के साथ विवाद के चलते सुर्खियों में छाए हुए थे. सुशील कुमार पहले 66 किलोग्राम वर्ग में खेलते थे, लेकिन उन्होंने 2016 में हुए रियो ओलंपिक के लिए अपना वजन बढ़ा लिया था और वह 74 किलोग्राम वर्ग में आ गए थे.

 

इस वर्ग के लिए भारत का ओलंपिक कोटा दूसरे पहलवान नरसिंह यादव ने हासिल किया था. ऐसे में इन दोनों पहलवानों के बीच ओलंपिक में जाने को लेकर विवाद हो गया था. सुशील कुमार ने अपने और नरसिंह के बीच कुश्ती कराने और जीतने वाले को ओलंपिक में देने की मांग की थी, जिसे खेल संघ ने स्वीकार नहीं किया था. उन्हें हाई कोर्ट से भी निराशा हाथ लगी थी. हालांकि, नरसिंह भी डोपिंग विवाद में फंसने के कारण रियो ओलंपिक में नहीं खेल सके थे.  

इसके बाद उनकी WWE में जाने की बातें भी सामने आई थीं, लेकिन वहां भी उनकी बात नहीं बन सकी. फिलहाल वह फिर से कुश्ती की दुनिया में लौटे हैं और अब कॉमनवेल्थ में उनसे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है.

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार