किसानों ने जाना फार्मर फर्स्ट प्रोजेक्ट

On Date : 13 September, 2017, 2:14 PM
0 Comments
Share |

नाबार्ड-वीयू के वैज्ञानिकों के बीच हुई चर्चा
प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर

किसानों और पशुपालकों की आय को बढ़ाने की दिशा में काम कर रहे नाना जी देशमुख वेटरनरी साइंस यूनिवर्सिटी में डेयरी उद्यमिता विकास योजना पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया।  वेटरनरी साइंस यूनिवर्सिटी व  नाबार्ड के अधिकारियों के बीच हुई चर्चा के बाद। पशुपालकों व किसानों को डेयरी उद्यमिता के लिये लोन लेने के लिए आवेदन करना, सब्सिडी एवं अन्य आवश्यक दस्तावेजों के प्रस्तुतीकरण के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई।
कार्यशाला की अध्यक्षता कर रहे विवि के कुलपति डॉ. प्रयाग दत्त जुयाल  ने विवि द्वारा अंगीकृत गांवों के कृषकों को अपनी आय में वृद्धि में लिए खेती के साथ साथ डेयरी एवं अन्य सह व्यवसायों को अपनाने पर महत्वपूर्ण जानकारी दी और नाबार्ड के सहायक प्रबंधक जिला विकास संदीप धारकर द्वारा किसानों को डेयरी उद्यमतिा से संबंधित योजनाओं हेतु दी जाने वाले लोन पर अनुदान की क्र मबद्ध तरीके से जानकारी उपलब्ध कराई गई। विवि के सभी विभागाध्यक्ष एवं प्रमुख बैकों के उच्चाधिकारियों सहित फार्मर फर्स्ट प्रोजेक्ट द्वारा अंगीकृत ग्राम पड़रिया, सिलुआ, घाना, कैलवास, छत्तरपुर के दर्जनों कृषक उपस्थित रहे।

स्वामी विवेकानंद के व्यक्तित्व को अपने जीवन में उतारें
वेटरनरी यूनिवर्सिटी में विश्व बंधुत्व दिवस के अवसर पर युवा भारत एवं स्वामी विवेकानंद पर आध्यात्मिक व्याख्यान हुए। मुख्य वक्ता डॉ. अखिलेश गुमास्ता ने  स्वामी विवेकानंद के व्यक्तित्व  और कृतित्व पर प्रकाश डाला। युवाओं से आव्हान किया कि वे स्वामी विवेकानंद की भांति उठें और जागृत होकर अपने लक्ष्य की ओर बढ़ते रहें, जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो। कार्यक्रम में विवि के कुलपति डॉ. जुयाल ने कहा कि विवेकानंद के व्यक्तित्व और कृतित्व को अपने जीवन में उतार कर देश सेवा में आगे बढ़ें।  कार्यक्रम में डीन डॉ. आरपीएस बघेल, डीन फैकल्टी डॉ. एसएनएस परमार, डॉ. पीसी शुक्ला, डॉ. चनपुरिया व डॉ. केपी सिंह सहित बड़ी संख्या में पशु वैज्ञानिक उपस्थित थे।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार