पश्चिम बंगाल में भाजपा बडी संख्या में लोगों तक पहुंचने के लिए कर रही है संघर्ष : प्रदीप्त तापदार

On Date : 25 December, 2017, 3:03 PM
0 Comments
Share |

कोलकाता : पंचायत चुनाव से पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राज्य में लोगों से संपर्क करने के लिए तय किए गए लक्ष्य को हासिल करने में भाजपा के नेताओं को यहां संघर्षों का सामना करना पड रहा है। यहां तक कि भाजपा के नेताओं में आपस में मनमुटाव हो रहे हैं और उनमें सामंजस्य की कमी है। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व का एक धडा यह मानता है कि सत्तारूढ तृणमूल कांग्रेस तथा कभी वामपंथियों का गढ रहे इस राज्य में पार्टी तेजी से आगे बढ रही है लेकिन यहां की राज्य इकाई का कहना है कि कई वजहों से पार्टी इस तेजी को पकडने में सक्षम नहीं हो पा रही है। साल 2016 के विधानसभा चुनाव के बाद से राज्य में भाजपा के वोट प्रतिशत में बढोतरी हुई है और वह अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी तृणमूल कांग्रेस के समक्ष चुनौती खडी कर रहा है। हालांकि भाजपा नेतृत्व को प्रधानमंत्री से बैलेट शेयर 18 फीसदी बढने पर प्रशंसा मिली है। हालांकि एक वरिष्ठ नेता ने स्वीकार किया कि मतदाताओं को लुभाने के लिए उन्हें बहुत कुछ करने की जरूरत है। भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, हम राज्य में अभी तक सभी 77,000 बूथों पर नहीं पहुंच पाए हैं। इस साल की शुरआत में बंगाल की यात्रा पर आए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने साल 2017 के अंत तक बूथ कमेटी बनाने का लक्ष्य तय किया था। लेकिन हम अभी तक लक्ष्य का 65-70 फीसदी ही हासिल कर पाए हैं। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि ऐसी संभावना है कि बूथ कमेटी बनाने का काम अगले महीने तक पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा, हम आशा करते हैं कि बूथ स्तर की कमेटी बनाने का काम साल 2018 तक पूरा हो जाएगा। राज्य में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, पार्टी के एक धडे के नेताओं के बीच हो रही लडाई की वजह से पार्टी के आगे बढने के रास्ते में रूकावट पैदा हो रही है। पार्टी के एक धडे के नेता मौजूदा नेतृत्व के मनमाने रवैये से खुश नहीं हैं और असकि/य हो गए हैं। पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष भी इस बात से सहमत हैं कि पार्टी अभी तक राज्य के सभी बूथों पर नहीं पहुंची है।
 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार