जनता के पैसों पर मौज कर रहे नेता-अफसर

On Date : 14 January, 2018, 4:33 PM
0 Comments
Share |

कांग्रेस ने खोला मोर्चा, परिषद में मांगा जाएगा हिसाब

प्रदेश टुडे संवाददाता, ग्वालियर
जनता के हक के पैसे को नगरनिगम के अफसर और सत्ताधारी नेता अपने ऐशो आराम पर उड़ा रहे हैं। मनमाने तरीके से निगम में भोज दिए जाने और नियम कायदों को दरकिनार कर वाहन किराए के नाम पर निगम के पैसे खर्च कर नेता-अफसर मौज कर रहे हैं। यह आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने सत्तापक्ष और निगमायुक्त के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।
निगम में जारी तमाम वित्तीय अनियमितताओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष कृष्णराव दीक्षित ने बाकायदा निगमायुक्त विनोद शर्मा को एक स्मरण पत्र सौंपते हुए इस गंभीर मामले में जिम्मेदार ठहराते हुए जवाब मांगा है। विपक्ष की ओर से सौंपे गए पत्र में नगर निगम में नियमों की अनदेखी कर उड़ाए जा रहे जनता के पैसों की बरवादी रोकने की मांग करते हुए चेतावनी भी है कि अगर जनता के पैसे का दुरुपयोग नहीं रुका तो विपक्ष परिषद में इसका जवाब मांगेगा।
वार्षिक प्रतिवेदन न देकर छिपाया भ्रष्टाचार
निगामयुक्त को सौंपे गए पत्र में निगम की वार्षिक प्रशासन रिपोर्ट और हिसाब-किताब का विवरण पेश नहीं किए जाने को भी भ्रष्टाचार छिपाने का कृत्य बताया गया है। गौरतलब है कि वित्तीय वर्ष 2015-16 और 2016-17 का वार्षिक प्रसाशनिक प्रतिवेदन अभी तक प्रस्तुत नहीं किया गया है जो कि निगम एक्ट के प्रावधानों का खुला उल्लंघन है।
क्या कहता है निगम अधिनियम
नगर पालिका निगम अधिनियम 1956 की धारा 127 के अनुसार एक्ट में स्पष्ट प्रावधान किया गया है कि नगर निगम आयुक्त प्रतिवर्ष एक अप्रेल के पश्चात यथा संभव निगम का वार्षिक प्रशासन प्रतिवेदन एवं वर्ष में निगम की निधि से किए गए समस्त व्यय एवं प्राप्तियों का विवरण प्रस्तुत करेगा।  
इन मुद्दों पर मांगा जवाब
ल्ल    अधिकारियों द्वारा नियम विरुद्ध एक से अधिक वाहन का उपयोग किया जाना।
ल्ल    ऐसी जरुरत होने पर टैक्सी कोटे में रजिस्टर्ड वाहन का उपयोग नहीं किया जाना ।
ल्ल    नववर्ष, दीपावली एवं अन्य त्यौहारों पर शासकीय खर्चे पर बधाई संदेश भेजना।
ल्ल    सरकारी व्यय पर भोज वगैरह दिया जाना, जो निगम के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता ।
ल्ल    प्रदेश के बाहर राज्य सरकार की अनुमति के बगैर यात्रा किए जाने का मामला ।
ल्ल    विभागीय, शासकीय व प्रशासकीय बैठकों में प्रतिबंध के बाद भी भोज दिया जाना।

एसटी के टॉपर छात्रों को मिलेंगे 51 हजार नगद
गौंड राजा शंकरशाह और रानी दुर्गावती के नाम पर पुरस्कार देगी सरकारी
प्रदेश टुडे संवाददाता, ग्वालियर
अनुसूचित जनजाति वर्ग के कक्षा 10 और कक्षा 12 वीं के टॉपर छात्र-छात्राओं को मप्र सरकार अलग से पुरस्कृत करेगी। गौंड राजा शंकरशाह और रानी दुर्गावती के नाम पर यह नगद राशि पुरस्कार के रूप में इन होनहार छात्रों को 26 जनवरी को गणतंत्र दिवसी के अवसर पर दी जाएगी। सबसे अधिक अंक पालने वाले टॉपर छात्रों को 51 हजार का इनाम मिलेगा,वहीं द्वितीय और तृतीय स्थान वालों को क्रमश:40 हजार और 30 हजार रुपए दिए जाएंगे।
पुरस्कार के लिए जनजातीय कार्य विभाग ने माध्यमिक शिक्षा मंडल से एसटी वर्ग के छात्रों की लिस्ट मंगा दी है। जिसमें दवसीं के 7 छात्र-छात्राओं और 12 वीं के 10 छात्र-छात्राओं के नाम शामिल हैं। सूची में चौथे नंबर पर आने वालें छात्रों को 20 हजार,पांचवे नंबर वालों को 15 हजार,छठवें नंबर वालों को 10 हजार का नगद इनाम दिया जाएगा। आयुक्त जनजातीय कार्य विकास विभाग दीपाली रस्तोगी ने बताया कि जिन जिलों के बच्चे चयनित हुए हैं,उनके अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पुरस्कार के लिए शीघ्र छात्रों की बैंक खातों की जानकारी भेजें। 23 जनवरी तक अनिवार्य रूप से राशि खातों में जमा करा दी जाएगी। शंकरशाह और रानी दुर्गावती पुरस्कार का प्रशस्ति पत्र राज्य स्तरीय नेतृत्व विकास शिविर भोपाल में दिया जाएगा।

इन छात्र-छात्राओं का हुआ चयन
ल्ल    कक्षा 10: बड़वानी के शिवलाल मंडलोई,अलीराजपुर से स्नेहा भाबर, मंडला से प्रभा वारकड़े और मधुलिका मार्को,छत्तरपुर से महिमा तिर्की, शहडोल से प्रीति सिंह,हरदा से भाग्यश्री गिनारे शामिल हैं।
ल्ल    कक्षा 12: इंदौर से दिनेश लाविस्कर,छिंदवाड़ा से अभिषेक मरकाम,दतिया से नम्रता भगत,जबलपुर से निशांत बहुरिया, कनिश्का उईके और हेमलता ,बड़वानी से नेहा पटेल,नीमच से मिशेल डोनाल्ड,सीधी से रवीना टांडिया,देवास से योगिता डोडवे के नाम शामिल हैं।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार