2017 विवादों में घिरे रहे मंत्री कईयों ने की हदें पार

On Date : 27 December, 2017, 5:55 PM
0 Comments
Share |

जालंधर : कहते हैं किसी का पास्ट जानना हो तो उसे राजनीति ज्वाइंन करवा देनी चाहिए,क्योंकि राजनीति में कदम रखते ही कैसे किसी के राज खुलने लगते हैं इसका अंदाजा वायरल हुईं अश्लील वीडियो से लगाया जा सकता है। इतना ही नहीं किसी भी पार्टी की सरकार बनते ही दूसरी पार्टी के घोटाले सामने आने लगते हैं। ऐसी राजनीति का आम जनता पर क्या असर होगा इसका किसी मंत्री से कोई लेना-देना नहीं। वर्ष 2017 में राजनीति से संबंधित विवाद उभर कर सामने आए जिसने सरकार के साथ-साथ जनता को भी शर्मसार कर दिया। कई मंत्री अपने बेबाक बोल के चलते सुर्खियों में रहे।

शिरोमणि अकाली दल के सांसद शेर सिंह घुबाया ने उस समय विवाद पैदा कर दिया जब उनका कथित ‘सेक्स टेप’ वायरल हो गया। साढ़े चार मिनट के इस वीडियो में वह कथित तौर पर एक महिला के साथ आपत्तिजनक स्थिति में दिख रहे थे। शेर सिंह घुबाया फिरोजपुर से सांसद हैं। घुबाया ने इस वीडियो को फर्जी बताते हुए इसके लिए पंजाब के डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल को जिम्मेदार ठहराया था।
जलालाबाद में पहली बार कांग्रेस के साथ मंच साझा करते हुए घुबाया ने कहा था जलालाबाद और फाजिल्का में शिरोमणि अकाली दल की हार होने वाली है और अब पार्टी ब्लैकमेल करने लगी है और मेरे चरित्र पर दाग लगाने की कोशिश कर रही है।  कभी सुखबीर सिंह बादल के करीबी रहे अकाली दल सांसद अब जलालाबाद से कांग्रेस उम्मीदवार रवनीत सिंह बिट्टू के साथ मीडिया को संबोधित करते दिखे थे।

गुरदासपुर की राजनीति में जोरदार धमाका तब हुआ जब सिटी पुलिस गुरदासपुर ने एक विधवा महिला की शिकायत पर पंजाब के पूर्व अकाली मंत्री तथा शिरोमणि अकाली दल जिला गुरदासपुर के प्रधान सुच्चा सिंह लंगाह के विरुद्व दुष्कर्म का केस दर्ज किया।  

 

विजिलैंस विभाग पठानकोट में तैनात महिला कर्मचारी ने पुलिस को शिकायत दी थी कि पंजाब के पूर्व मंत्री सुच्चा सिंह लंगाह  उससे वर्ष 2009 से उसकी मर्जी के विरुद्व दुष्कर्म करते आ रहे है। इस शिकायत के आधार पर सिटी पुलिस स्टेशन में  केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने महिला के ब्यान के बाद उसका मैड़ीकल करवाने के लिए उसे सिविल अस्पताल गुरदासपुर भेजा।
     
बता दें महिला का पति  पुलिस कर्मचारी था तथा वर्ष 2009 में उसका बीमारी के कारण देहांत हो गया था। सरकार ने उसकी मौत के बाद महिला को तरस के आधार पर पुलिस में नौकरी दी थी।  


अकाली सरकार में मंत्री रहे दिग्गज नेता सुच्चा सिंह लंगाह के बाद गुरदासपुर से भाजपा उम्मीदवार स्वर्ण सलारिया भी उपचुनाव दौरान उस समय चर्चा में आए जब सलारिया के खिलाफ 2014 के रेप केस मामले में पीड़िता सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। पीड़िता ने आरोप लगाया कि सलारिया उसके साथ 1982 से 2014 तक रहता था।   शादी का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाता रहा लेकिन 2014 में शादी करने से मना किया। फिर उसे मुंबई में पीजी और फिर फ्लैट लेकर दिया था। इतना ही नहीं उसने  आपत्तिजनक तस्वीरें भी दिखाई । पीड़िता ने सीबीआई जांच की मांग की थी।  

चीफ खालसा दीवान के मुखी का अश्लील हरकतें करने की वीडियो वायरल  

सिखों की प्रसिद्ध संस्था चीफ खालसा दीवान के मुखी द्वारा अपने ही कार्यालय में एक महिला के साथ की गई अश्लील हरकतों का वीडियो सामने आया जिसके बाद सिखों में भारी रोष पाया गया।

पंजाब में एक बार फिर भ्रष्टाचार को लेकर विपक्ष उस समय हमलावर हो गया। कैप्टन अमरेंद्र सिंह सरकार के पावर मिनिस्टर पर माइनिंग के ठेके को लेकर कई प्रकार के आरोप लगे। इनके चलते विपक्ष ने कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह के इस्तीफे की मांग की। मंत्री के रसोईए द्वारा खड्डों की बोली लगाने को लेकर विपक्ष ने इसका कड़ा विरोध जताया।


 

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार