अतिक्रमण पर चला नगर निगम का बुल्डोजर, कार्रवाई में TI घायल

On Date : 10 January, 2018, 10:42 PM
0 Comments
Share |

600 से ज्यादा लोगों की टीम, 12 पोकलेन और 5 जेसीबी की मदद से निर्माण हटाए
इंदौर। सरवटे बस स्टैंड से गंगवाल बस स्टैंड के बीच प्रस्तावित सड़क को लेकर इंदौर के मच्छी बाजार इलाके में बुधवार सुबह से निर्माण तोड़ने की कार्रवाई शुरू हुई। नगर निगम और जिला प्रशासन की इस कार्रवाई में तहत मच्छी बाजार से सिलावटपुरा की जद में 150 से ज्यादा मकान, दुकान हैं जिन्हें तोड़ा जाएगा। फिलहाल इनमें से 66 मकानों को छोड़कर शेष पर कार्रवाई की जा रही है। कोर्ट से स्टे खारिज होने के बाद मंगलवार को नगर निगम, जिला प्रशासन और पुलिस ने शाम को मच्छी बाजार की देसी शराब की कलाली और अन्य निर्माण को हटाने की कार्रवाई की।
एडीएम अजय देव शर्मा और नगर निगम के अपर आयुक्त देवेंद्रसिंह के नेतृत्व में प्रशासन की टीम ने पूरे संसाधनों और अमले के साथ सुबह ही इलाके में दस्तक दे दी थी। फिर 11 पोकलेन और करीब दो दर्जन जेसीबी मशीनों और डम्परों के साथ कार्रवाई शुरू की।आपको बता दें कि निगम ने सरवटे बस स्टैंड से गंगवाल बस स्टैंड तक 80 फीट चौड़ी सड़क प्रस्तावित है। इनमें से कोर्ट प्रकरणोंं के चलते 66 मकानोंं को फिलहाल छोड़ा जा रहा है। 66 में से 60 के मामले सुप्रीम कोर्ट में और 6 मकानों के प्रकरण हाईकोर्ट इंदौर में लम्बित हैं। इधर इस बार कार्रवाई बहुत सुनियोजित तरीके से की जा रही है। निगम के हर अमले में 50-50 निगमकर्मी और इतने ही पुलिसकर्मी और अधिकारी शामिल हैं। हर पोकलेन के साथ एक बिल्डिंग आॅफिसर, एक इंजीनियर भी रखे गए हैं। कार्रवाई के दौरान एमआईजी थाना प्रभारी तारेश सोनी घायल हो गए। कड़ावघाट के पास पोकलेन मशीन को पीछे लेने के दौरान टीआई पोकलेन की चपेट में आ गए और उनके पैर में चोट लग गई। उन्हें तत्काल इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया। इस कार्रवाई के लिए पुलिस और प्रशासन पूरी सतर्कता बरत रही है। इस बार बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी घरों और मकानों की छतों पर भी खड़े किए गए हैं। छत से पूरे इलाके में विशेष निगरानी की जा रही है। गौरतलब है कि इस इलाके में दो बड़ी घटनाएं हुई हैं जब लोगों ने छतों से पुलिस और प्रशासन की टीमों पर हमला किया था। एक घटना में तत्कालीन एसपी अनिलकुमार धस्माना के गार्ड छेदीलाल दुबे के सिर पर सीलबट्टा फेंका गया था जिससे उनकी मौत हुई थी इलाके की संवेदनशीलता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पूरी कार्रवाई के लिए करीब 500 का पुलिस बल तैनात किया गया है। इनमें थाना प्रभारियों सहित 17 थानों का बल, एसएफ के 90 जवान, रिजर्व बल के करीब 100 कर्मी मौजूद हैं। हालांकि ताजा जानकारी के मुताबिक निगम प्रशासन द्वारा निर्माण हटाने की कार्रवाई फिलहाल रोक दी गई क्योंकि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है।
मछली बाजार अतिक्रमण कार्यवाही पर रोक
मच्छी बाजार इलाके में सुबह से निर्माण तोड़ने की कार्रवाई शुरू हुई। लेकिन बाद में स्टे मिल जाने से कारवाही को रोकना पड़ा। नगर निगम और जिला प्रशासन की इस कार्रवाई में तहत मच्छी बाजार से सिलावटपुरा की जद में 150 से ज्यादा मकान, दुकान हैं जिन्हें तोड़ा जाएगा। फिलहाल इनमें से 66 मकानों को छोड़कर शेष पर कार्रवाई की जा रही थी।

जब थाना प्रभारी के पैर दब
गए पोकलेन मशीन में
मच्छी बाजार इलाके में तोड़फोड़ की कार्रवाई में बाणगंगा थाना के प्रभारी तारेश सोनी  के पैर पर पोकलेन मशीन के नीचे आ जाने से घायल हो गए। जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। थाना प्रभारी के पैर पर कार्रवाई के दौरान पोकलेन मशीन चढ़ गई जिससे टीआई का पैर बुरी तरह जख्मी हो गया। उन्हें तुरंत अस्पताल भेजा गया।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार