रिटायर्ड थानेदार का बेटा चला रहा था लुटेरा गिरोह, 5 गिरफ्तार..

On Date : 31 December, 2017, 4:52 PM
0 Comments
Share |

जालंधर : लुधियाना से आकर लांबड़ा एरिया में लूटपाट की वारदातें करने वाले लुटेरा गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है। 6 लुटेरों के गैंग के 5 सदस्यों को गिरफ्तार कर लूट का सामान व हथियार बरामद किए गए हैं। डी.एस.पी. करतारपुर सर्वजीत सिंह राय ने बताया कि अगस्त महीने में लांबड़ा एरिया में एक के बाद एक कई वारदातें हुईं। रात के समय लुटेरों ने घरों में सेंधमारी कर नकदी व गहने लूटे तथा एक गैस एजैंसी के गोदाम के कर्मचारियों को बंधक बनाकर नकदी लूट ले गए थे।

जालंधर देहात के एस.एस.पी. गुरप्रीत सिंह भुल्लर के निर्देशानुसार थाना लांबड़ा के एस.एच.ओ. पुष्प बाली ने मामले की जांच के दौरान वारदातें करने वाले गिरोह के 5 सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस जांच में खुलासा हुआ कि गिरोह का सरगना मनप्रीत सिंह उर्फ मनी है। मनी के पिता बलदेव सिंह पंजाब पुलिस से कुछ साल पहले थानेदार के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। बुरी संगत व नशे की लत ने मनप्रीत मनी को लुटेरा गिरोह का सरगना बना दिया। पुलिस जांच में यह भी खुलासा हुआ है कि मनी हर वारदात में अपने साथियों के साथ आगे रहता। वह हथियार चलाने से जरा भी गुरेका नहीं करता था। आरोपी मनी गिरोह में सबसे ज्यादा डैस्परेट क्रिमिनल है।

-नवदीप सिंह उर्फ गोपी पुत्र भूपिन्द्र सिंह वासी अमन नगर, लुधियाना
-मनप्रीत सिंह उर्फ मनी पुत्र बलदेव सिंह वासी गुरबख्श नगर, लुधियाना
-प्रिंस उर्फ राजू पुत्र गुलशन कुमार वासी अमन नगर, लुधियाना-पवन कुमार पम्मू पुत्र बबलेष कुमार वासी विश्वकर्मा नगर, ताजपुर रोड़, लुधियाना
-गुरप्रीत उर्फ काली पुत्र सुरिन्द्र सिंह वासी मोहल्ला रामगढ़, फिल्लौर

आरोपियों से पूछताछ के दौरान 23 व 24 अगस्त को लांबड़ा एरिया में हुई सभी वारदातें ट्रेस हो गईं। आरोपियों से वारदात में प्रयुक्त कार, लूट का सामान तथा हथियार भी बरामद कर लिए गए हैं।

डी.एस.पी. सर्वजीत राय ने बताया कि गिरोह के सभी सदस्यों के खिलाफ लुधियाना, फिल्लौर और अब लांबड़ा में केस दर्ज है। कुछ समय पहले तक गिरोह के सदस्य लुधियाना में ही सक्रिय रहे लेकिन अब अगस्त महीने में उक्त लुटेरों ने लांबड़ा एरिया में एक के बाद एक 3 वारदातें कीं। लुटेरों का वारदात करने का स्टाइल यह रहा कि वह दिन के समय कार में इक_े निकलते व किसी न किसी गांव पहुंच कर बंद पड़े घर या आसान टार्गेट देखते ही वारदात कर देते थे तथा वारदात करने के पश्चात तुरंत वापस लुधियाना भाग जाते।

चोर गिरोह के सदस्यों के पकड़े जाने पर जब चोरी की वारदातों संबंधी पूछताछ हुई तो पुलिस के लिए बड़ी अजीब स्थिति बन गई। हुआ यूं कि 23 अगस्त की रात रणजीत सिंह के घर वारदात हुई। पुलिस को बताया गया कि चोर बीती रात घर से 50 हकाार रुपए और लाखों के गहने चोरी कर ले गए। पुलिस ने जब लुटेरे पकड़े तो बरामदगी लिखवाई गई राशि से बेहद ज्यादा कम थी। पुलिस ने लुटेरों से सख्ती से पूछताछ की तो अपराधियों ने खुलासा किया कि रणजीत के घर से सिर्फ 9500 रुपए ही हाथ लगे थे। वहां कोई गहने नहीं थे।

पीड़ित के बयान और चोरों के खुलासे के पश्चात पुलिस के लिए बड़ी विकट परिस्थिति बनी। सूत्रों ने बताया कि पीड़ित व्यक्ति को पुलिस ने थाना में जांच के लिए बुलाया लेकिन फिलहाल मामला अधर में है। डी.एस.पी. सर्वजीत सिंह राय का कहना है कि जरूरत पड़ी तो अपराधियों को पीड़ित व्यक्ति के सामने कर स्थिति स्पष्ट की जाएगी।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार