छत्तीसगढ़ में पुलिस मुठभेड़ के बाद तीन नक्सली गिरफ्तार

On Date : 27 January, 2018, 2:05 PM
0 Comments
Share |

रायपुर: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कांकेर जिले में पुलिस ने मुठभेड़ के बाद तीन नक्सलियों को गिरफ्तार कर लिया है. कांकेर जिले के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जिले के कोयलीबेड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत आलपरस गांव के जंगल में पुलिस ने मुठभेड़ के बाद तीन नक्सलियों मानकू वर्दा (25 वर्ष), खुंटा वर्दा (23 वर्ष) और टांगरू पद्दा (22 वर्ष) को गिरफ्तार किया.

अधिकारियों ने बताया कि कोयलीबेड़ा क्षेत्र में नक्सल विरोधी अभियान के तहत सीमा सुरक्षा बल, जिला बल और एसटीएफ के संयुक्त दल को गट्टाकाल, मिण्डी, कामतेड़ा, काकनार, ईरगानार, आलपरस, पानीडोबीर और गुंदुंल गांव की ओर रवाना किया गया था.

उन्होंने बताया कि दल जब आलपरस गांव के जंगल में था तब नक्सलियों ने पुलिस दल पर गोलीबारी शुरू कर दी. इसके बाद पुलिस दल ने भी जवाबी कार्रवाई की. कुछ देर तक दोनों ओर से गोलीबारी के बाद नक्सली वहां से फरार हो गए. मुठभेड़ के बाद जब पुलिस दल ने घटनास्थल की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया तब वहां से तीन नक्सली पकड़ लिए गए.

अधिकारियों ने बताया कि पुलिस दल ने नक्सलियों के पास से गोला-बारूद, हथियार बरामद किए. वहीं क्षेत्र के गुंदुंल गांव में नक्सली स्मारक को भी ध्वस्त किया गया. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार नक्सलियों से पूछताछ की जा रही है.

सीआरपीएफ के दो कोबरा कमांडो को वर्ष 2016 में झारखंड के लातेहर में नक्सल विरोधी अभियान चलाने के लिए शौर्य चक्र प्रदान किया जाएगा. इस अभियान में छह माओवादी मारे गए थे और हथियारों तथा गोला बारूद का एक बड़ा जखीरा बरामद किया गया था.

असिस्टेंट कमांडेंट विकास जाखड़ और उप-निरीक्षक रियाज आलम अंसारी उग्रवाद के विरुद्ध अभियान चलाने और खूफिया सूचना के आधार पर जंगल में युद्ध करने के लिए बनाई गई सीआरपीएफ की विशेष इकाई ‘दृढ़ कार्रवाई के लिए कमांडो बटालियन’ (कोबरा) की 209वीं बटालियन से हैं.  शौर्य चक्र, अशोक चक्र और कीर्ति चक्र के बाद शांति के समय मिलने वाला तीसरा सैन्य पुरस्कार है.

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार