अखंड सौभाग्य के साथ कल होंगे विवाह

On Date : 17 April, 2018, 1:27 PM
0 Comments
Share |

अक्षय तृतीय और परशुराम तीज कल
प्रदेश टुडे संवााददाता, ग्वालियर
वैसाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया का पर्व मनाया जाता है. हिंदू पंचांग में भी इस तिथि को सबसे शुभ माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि कि इस दिन कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है और इस दिन किए गए शुभ काम का कभी क्षय नहीं होता इसलिए इसे अक्षय तृतीया कहते हैं.
इस साल अक्षय तृतीया 18 अप्रैल 2018 को मनाया जाएगा. अक्षय तृतीया के ही दिन भगवान परशुराम का जन्मदिन भी मनाया जाता है इसलिए इसे परशुराम तीज भी कहते हैं. ऐसा माना जाता है कि इस दिन विवाह करने वालों का सौभाग्य अखंड रहता है.

क्या है मान्यता
स्कंद पुराण में उल्लेख किया गया है कि वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया को माता रेणुका के गर्भ से भगवान विष्णु ने परशुराम के रूप में जन्म लिया था। इस दिन खासकर दक्षिण भारत में परशुराम की जयंती धूमधाम से मनाई जाती है. इस के साथ ही इस दिन लक्ष्मी माता की प्रसन्नता के लिए विशेष पूजा पाठ करने का भी विधान है।  इस दिन महालक्ष्मी की प्रसन्नता के लिए विशेष पूजा की जाती है। इस दिन देवी के प्रसन्न होने से धन की प्राप्ति होती है। अक्षय तृतीया के दिन को बेहद शुभ और अक्षुण्ण फल प्रदान करने वाला दिन भी कहा जाता है।

ये भी है मान्यता
साथ ही ये भी कहा जाता है कि अक्षय तृतीया पर ही भगवान श्रीकृष्ण ने पांडवों को वनवास पर जाते समय अक्षय पात्र दिया था। यह एक ऐसा पात्र था जो कभी खाली नहीं होता था. साथ ही इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने अपने बचपन के दोस्त सुदामा की दरिद्रता को दूर की थी।

क्या है महत्व
शास्त्रों के अनुसार अक्षय तृतीया के दिन वृंदावन के बांकेबिहारी जी के मंदिर में साल में एक बार श्री विग्रह के चरण दर्शन होते हैं. इस दिन ही भगवान गणेश ने महाभारत को लिखने की शुरूआत की थी. साथ ही इस पवित्र स्थल बद्रीनाथ के कपाट भी खुल जाते है।
सोना खरीदने की परंपरा
अक्षय तृतीया के दिन सोना खरीदने की विशेष परंपरा है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन सोना खरीदने से घर में सुख समृद्धि बढ़ती है। लेकिन किसी कारणवश अगर आप इस दिन सोना नहीं खरीद पा रहे हैं तो भी इस दिन दान अवश्य करें। इस दिन दान करने का विशेष महत्व है। दान करने से आपका आने वाला समय अच्छा होगा।

पूजा का शुभ मुहूर्त: अक्षय तृतीया पर पूजा करने का शुभ मुहूर्त सुबह 5:56 मिनट से लेकर दोपहर के 12:20 बजे तक है।
खरीरदारी करने का शुभ मुहूर्त: सुबह 5:56 से आधी रात तक अक्षय तृतीया के दिन खरीददारी करने का शुभ मुहूर्त है।

आपकी राय

Name
Email
Comment
No comments post, Be first to post comments!

प्रदेश टुडे मैगज़ीन

November, 2014

ब्लॉग

शेयर बाज़ार