श्रीनगर : जम्मू, कठुआ और सांबा जिलों में आज लगातार नौंवे दिन पाकिस्तानी रेंजरों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की. पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा जम्मू, कठुआ और सांबा जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे भारतीय गांवों और सीमा चौकियों पर आज मोर्टार से गोले दागने और गोलीबारी की घटना में पांच लोगों की मौत हो गई और नौ अन्य घायल हो गए हैं.

जम्मू जिले के आरएस पुरा, अरनिया, बिस्नाह और रामगढ़ तथा सांबा सेक्टरों पर कल रात से गोलीबारी जारी है. बुधवार सुबह कठुआ जिले से हीरानगर में सीमा पार से फायरिंग की गई.

पाकिस्तान ने बीएसएफ की करीब 40 पोस्टों को निशाना बनाया गया है. बीती रात लगातार सीमा पार से गोल दागे गए. इस फायरिंग में 4 नागरिक घायल हुए हैं. इनमें तीन हीरानगर सेक्टर के लोंदी गांव के हैं, जबकि एक व्यक्ति अरनिया सेक्टर में घायल हुआ है.

पुलिस के मुताबिक, पाकिस्तान की ओर से रातभर हीरानगर, सांबा, रामगढ़, अरनिया और आरएसपुरा सेक्टर में गोलीबारी की गई. अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर के पांच किमी. के आसपास सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद किया गया है. लगातार फायरिंग को देखते हुए आरएसपुरा, अरनिया और सांबा सेक्टर में और अधिक बुलेटप्रूफ वाहनों को भेजा गया है. पाकिस्तान 82MM के मोर्टार दाग रहा है.

पलायन को मजबूर लोग
पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा जम्मू, सांबा और कठुआ जिलों में सैन्य और असैन्य ठिकानों पर लगातार की जा रही गोलीबारी और बमबारी के कारण सीमावर्ती गावों से 40,000 से अधिक लोगों को अपने घर छोड़कर सुरक्षित स्थानों की ओर पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा है.

पुलिस ने बताया कि कुछ लोगों ने प्रशासन द्वारा बनाए गए अस्थाई शिविरों में शरण ली है, जबकि अधिकांश अन्य अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के घर में शरण लेने के लिए मजबूर हुए हैं.

महिला और बच्चे की हुई थी मौत
इससे पहले मंगलवार को भी पाकिस्तान ने सीमा पार से मोर्टार दागे और एलओसी से सटे अरनिया व आरएस पुरा सेक्टर के रिहाइशों इलाकों को निशाना बनाया गया. इस हमले में एक महिला की मौत हो गई थी, जबकि अखनूर के सेरी पल्ली गांव में एक मासूम की भी गोली लगने से मौत हुई है.