गर्मियां अपने चरम पर पहुंच चुकी हैं, ऐसे में लोगों को प्यास बहुत जल्दी लगने लगती है और वह खडे-खडे ही पानी का सेवन शुरु कर देते हैं। इनमें से कई लोग तो घर में घुंसते ही फ्रिज खोलकर पानी पीना जरूरी समझते हैं लेकिन जानकारी के लिए बता दें कि अगर यह आदत आपको भी है तो आपक भी अपनी इस शौकीया आदत के कारण कई घातक समस्याओं की चपेट में आ सकते हैं। क्योंकि खडे होकर पानी पीने का प्रभाव आपके पाचन पर तो पडता ही है, साथ में यह आपकी प्यास को भी नहीं बुझाता इसलिए हमेशा बैठकर पानी पीना ज्यादा बेहतर रहता। लेकिन जो लोग अभी भी खडे होकर पानी पीते हैं उनकों आज हम इसके नुकसानों से अवगत करवाने जा रहे हैं-

हालिया शोध में सामने आया है कि खडे होकर पानी पीने शरीर  में मौजूद अन्य तरल पदार्थों का संतुलन डगमगाने लगता है। जिसके कारण लोगों को गठिया और जोडों के दर्द की शिकायत होने लगती है।

जब आप अचानक खडे होकर पानी पीने लगते हैं तो पानी तेजी से गुर्दे के माध्यम से बिना छने निकल जाता है। यही कारण है कि आपको यूरीनल प्रॉबल्मस् का सामना करना पड़ सकता है औऱ यूरीन की प्रॉबल्मस् भी हृदय रोगों का कारण बनती है।

जाहिर है कि लोग प्यास बुझाने के चक्कर में ही खडे-खडे पानी पी लेते हैं। लेकिन आश्चर्यजनक बात तो यह है कि खडे होकर पानी पीने से कभी-भी प्यास नहीं बुझती। इसले आयुर्वेद में भी बैठकर पानी पीने की सलाह दी जाती है।

बैठकर पानी का सेवन करने से वह सीधा मांसपेशियों के साथ नर्वस सिसटम को राहत प्रदान करता है। साथ में यह आपकी दिमागी नसोंको तरल पदार्थ शरीर में पहुंचने का भी संकेत देता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि खडे होकर पानी पीने से ऐसा नहीं होता बल्कि आपका पाचन भी बिगडने लगता है।