सैन फ्रांसिस्‍को : 2016 में अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी के उम्‍मीदवार डोनाल्‍ड ट्रंप को चुनौती देने वाली अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन राजनीतिक जीवन छोड़कर विश्व की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक(Facebook) का नेतृत्व करने की इच्छा रखती हैं. सीएनईटी के मुताबिक, मैसाचुसेट्स के डेमोक्रेट अटॉर्नी जनरल मॉरा हीले ने जब हिलेरी से पूछा कि वह कौन सी कंपनी की सीईओ बनना पसंद करेगी तो इसके जवाब में हिलेरी ने बिना सोचे-समझे फेसबुक का नाम लिया.

हिलेरी ने कहा, "यह दुनिया में समाचार का सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है. हमारे देश की एक बड़ी आबादी को फेसबुक से ही खबरें मिलती हैं, फिर चाहे वह सच्ची हो या झूठी." हिलेरी शुक्रवार को हार्वर्ड में थीं, जहां उन्हें रैडक्लिफ मेडल से नवाजा गया. यह पुरस्कार उन लोगों को दिया जाता है, जिन्होंने समाज पर परिवर्तनकारी प्रभाव डाला हो. गौरतलब है कि फेसबुक कैम्ब्रिज एनालिटिका स्कैंडल के बाद अपने यूजर्स का विश्वास वापस पाने पर काम कर रहा है. कैम्ब्रिज एनालिटिका ने फेसबुक के 8.7 करोड़ यूजर्स के डेटा का दुरुपयोग किया था.

जब भारत यात्रा के दौरान हिलेरी के हाथ में हुआ फ्रैक्‍चर
हिलेरी क्लिंटन इसी साल मार्च में तीन दिवसीय निजी दौरे पर भारत आई थीं. उस दौरान मध्य प्रदेश के मांडू में जहाज महल की पत्थर की सीढ़ियों से उतरने के दौरान वह दो बार फिसल गई थीं. उनके दाहिने हाथ में चोट लगी थी और दर्द की वजह से 13 मार्च को जोधपुर पहुंचने के बाद वह लगातार डॉक्टरों के साथ रहीं और उन्हें अपने कार्यक्रम को रद्द करना पड़ा.

उसके बाद 14 मार्च की सुबह दर्द तेज हो गया और हिलेरी को एक अस्पताल ले जाया गया. डॉक्टर ने बताया कि उन्हें सुबह में एक अस्पताल में ले जाया गया, जहां उनके हाथ का सीटी स्कैन और एक्स-रे किया गया. जांच में उनकी दाहिनी कलाई में मामूली फ्रैक्चर का पता चला.