जयपुर: राजस्थान बीजेपी के वरिष्ठ विधायक एवं राज्य के पूर्व शिक्षा मंत्री घनश्याम तिवाड़ी ने सोमवार को पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखकर इस बात के लिए राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और केंद्रीय आलाकमान को जिम्मेदार ठहराया है. पार्टी विरोधी बयानबाजी के लिए मशहूर घनश्याम तिवाड़ी के इस्तीफे की एक खास बात भी है. दरअसल, आपातकाल के समय जेल में बन्द रहे तिवाड़ी ने पार्टी से इस्तीफा देने के लिए भी आपातकाल की बरसी का ही दिन चुना. तिवारी अब अपनी खुद की पार्टी से चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं. माना जा रहा है कि तिवाड़ी खुद वर्तमान विधानसभा सीट यानि सांगानेर विधानसभा सीट से अपनी नई पार्टी भारत वाहिनी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे.

दो सौ सीट पर चुनाव लड़ेगी तिवाड़ी की पार्टी
अपने इस्तीफे के बारे में बात करते हुए धनश्याम तिवाड़ी ने RSS से जुड़े रहने की बात कही है. तिवाड़ी ने कहा कि उन्होंने भारी मन से पार्टी छोड़ी है. और इससे पहले उन्होंने केन्द्र को चिठ्ठी भी लिखी. लेकिन जब केन्द्र ने ही प्रदेश नेतृत्व के आगे घुटने टेक दिए तो फिर आगे बात करने का कोई मतलब नहीं था. तिवाड़ी ने कहा कि उनकी भारत वाहिनी पार्टी प्रदेश में सभी दो सौ सीट पर चुनाव लड़ेगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वे समान विचारधारा वालों से तालमेल के लिए और पार्टी में लोगों को जोड़ने के लिए खुले मन से स्वागत करेंगे. घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि वह कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियों से अच्छे लोगों को अपनी पार्टी में शामिल करेंगे.

तिवाड़ी ने कहा- आज अघोषित आपातकाल
उन्होंने अपने मन की बात करते हुए आगे कहा, "बचपन से संघ की शाखाओं में जाता रहा. एक ही परिवार और संस्था से आज तक जुड़ा रहा. ऐसे में परिवार से दूर होना दुख और पीड़ा का विषय है." इस दौरान तिवाड़ी ने आपातकाल का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, "आज अघोषित आपातकाल लग रहा है. देश और प्रदेश में अघोषित आपातकाल लग रहा है".

तिवाड़ी का दावा, कई बीजेपी विधायक संपर्क में
उन्होंने आगे यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी के 15 से ज्यादा वर्तमान विधायक अभी उनके संपर्क में हैं और उनको अगले विधानसभा चुनाव में भारत वाहिनी पार्टी से चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है.

हाल ही में हुआ था भारत वाहिनी पार्टी का रजिस्ट्रेशन
आपको बता दें कि तिवाड़ी के बेटे अखिलेश तिवाड़ी की अध्यक्षता वाली भारत वाहिनी पार्टी का रजिस्ट्रेशन चुनाव आयोग में पिछले दिनों ही हुआ है. बताया जा रहा है कि तिवाड़ी पिछले एक साल से नई पार्टी के गठन की कसरत में जुटे थे. तिवाड़ी ने बताया है कि पार्टी का पहला प्रतिनिधि सम्मेलन 3 जुलाई को जयपुर में होगा.