जबलपुर: प्रदेश में इसी साल होने वाले चुनावों के कारण माननीयों की भाषा का स्तर लगातार गिरता जा रहा है. प्रदेश में नेताओं के बोल इस कदर विवादित हो रहे हैं कि भाषा की मर्यादा का कोई नाम ही नहीं रह गया है. मध्य प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे एक बार फिर विवादों के घेरे में आ खड़े हुए हैं. माननीय मंत्री मंच पर अपनी मर्यादा ही भूल गए. दरअसल, कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे डिंडोरी में एक कार्यक्रम में पहुंचे थे. कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस पर अपनी भड़ास निकालते-निकालते मंत्री जी की जुबान कुछ इस कदर बेलगाम हो गई कि वह कांग्रेस पर गालियों की बौछार करने लगे. यही नहीं मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे ने इस दौरान राज्यमंत्रियों की भी जमकर खिल्ली उड़ाई.

धुर्वे लांघ गए अपनी मर्यादा की सीमा

डिंडौरी में आयोजित मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफ़ी योजना के कार्यक्रम में मंत्री ओमप्रकाश धुर्वे ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. प्रदेश की शिवराज सरकार की उपलब्धियां गिनाने और कांग्रेस को कोसने में मंत्री धुर्वे अपनी मर्यादा की सीमा भी लांघ गए. सत्ता के नशे में चूर ओमप्रकाश धुर्वे ने कांग्रेस पार्टी के लिए अपशब्दों की झड़ी लगा दी. ओमप्रकाश धुर्वे ने कहा कि कांग्रेस ने कभी गरीबों और आदिवासियों का विकास नहीं किया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ही आदिवासियों को 15 लीटर शराब बनाने की छूट देकर ठगा है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस चाहती थी कि आदिवासी नशे में ही रहें और उसकी लूट चलती रहे. धुर्वे ने कहा कि कांग्रेस ने इसीलिए आदिवासियों को शराब का आदी बना दिया.

गढ़ दी नोटबंदी की नई परिभाषा

ओमप्रकाश धुर्वे इतने पर ही नहीं रुके और उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्धारा की गई नोटबंदी की एक नई परिभाषा भी गढ़ डाली. धुर्वे ने कहा कि कांग्रेस के शासन में हुये भ्रष्टाचार और घोटालों के रकम को सरकारी खजाने में वापस लाने के लिए ही नोटबंदी का अहम निर्णय प्रधानमंत्री मोदी ने लिया था. उन्होंने कहा कि नोटबंदी से वापस आई रकम से ही अब सरकार पीएम आवास, उज्ज्वला योजना जैसी कई जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित कर रही है. वहीं, धुर्वे ने खुद को बड़ा मंत्री बताते हुए राज्य मंत्री पद की उपेक्षा करने में भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ी. धुर्वे ने कहा कि राज्य मंत्रियों की बात तो चपरासी भी नहीं सुनता है. इस कार्यक्रम के दौरान मंच पर कलेक्टर, एसपी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे.