नई दिल्ली : अगर आप भी अक्सर ट्रेन से सफर करते हैं तो रेलवे की तरफ से शुरू की जा रही नई सुविधा आपको पसंद आएगी और जरूर आप इसकी तारीफ भी करेंगे. रेलवे की तरफ से यह कदम महाराष्ट्र में प्लास्टिक बैन करने का निर्णण के बाद उठाया जा रहा है. दरअसल रेलवे ने प्लास्टिक बैन का समर्थन करते हुए हाल ही में देशभर के 2000 रेलवे स्टेशनों पर प्लास्टिक बॉटल क्रशिंग मशीन लगाने का निर्णय लिया है. रेलवे स्टेशनों पर इन मशीनों के लगने से यात्रियों को ट्रैक या स्टेशन परिसर में प्लास्टिक की बोलत फेंकने से छुटकारा मिलेगा.

प्रदूषण के स्तर में कमी आएगी
रेलवे की तरफ से बॉटल क्रशिंग मशीन में इकट्ठा होने वाले बोतलों को प्लास्टिक मैन्युफैक्चर्स को दिया जाएगा. इससे प्लास्टिक से होने वाले प्रदूषण के स्तर में कमी आएगी. इससे पहले महाराष्ट्र सरकार ने प्लास्टिक को बैन किया था. इस पर रेलवे ने स्टेशन परिसर में प्लास्टिक प्रोडक्ट का इस्तेमाल करने वालों पर 25 हजार रुपये जुर्माना लगाने का प्रावधान किया था.

प्लेटफॉर्म और निकास द्वार पर लगेगी मशीन
आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार क्रशर मशीन को प्लेटफॉर्म और निकास द्वार पर लगाया जाएगा. इस मशीन से प्लास्टिक की बोतल को छोटे-छोटे टुकड़ों में कांटा जाएगा. रेलवे की तरफ से सभी 16 जोन और 70 डिवीजन में इस मशीन को लगाने का निर्देश जारी कर दिया गया है. फिलहाल इस्तेमाल की गई प्लास्टिक बॉटल को मैन्युअली डिस्पोज किया जाता है. भारतीय रेलवे की सहायक कंपनी राइटस (RITES) को मशीन लगाने और उसकी देखभाल करने के लिए एजेंसी का चयन करने की जिम्मेदारी दी गई है.

वडोदरा स्टेशन पर पहले से है सुविधा
इससे पहले रेलवे ने प्लास्टिक से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए एक और पहल शुरू की थी. इस पहल में पानी की खाली बोतल को क्रश करने पर यात्री को 5 रुपये का कैशबैक मिलने का प्रावधान था. इस पहल के तहत भारतीय रेलवे ने वडोदरा रेलवे स्टेशन पर बोतल क्रशर मशीन (bottle crusher) लगाई थी. ज्यादा से ज्यादा यात्रियों को प्रोत्साहित करने के लिए रेलवे बोतल को क्रश करने पर 5 रुपये कैशबैक देने की भी घोषणा की गई थी.