नई दिल्ली/लीड्स: टी20 सीरीज़ में इंग्लैंड को शिकस्त देने के बाद भारतीय टीम इंग्लैंड में वनडे सीरीज़ जीत के दरवाज़े पर खड़ी है. भारतीय टीम आज तीसरे और आखिरी वनडे मुकाबले के लिए हेडिंग्ले क्रिकेट ग्राउंड में इंग्लैंड से भिड़ेगी. इस मुकाबले को जीतने वाली टीम सीरीज़ पर अपना कब्ज़ा भी जमा लेगी.

सीरीज़ का अब तक का हाल:
पहले वनडे में 8 विकेट से बड़ी जीत हासिल करने के बाद भारत ने दूसरे मैच में कुछ गलतियां की थीं जिसका खामियाजा उसे भुगतना पड़ा था. पहले भारतीय गेंदबाजों ने जमकर रन लुटाए थे तो वहीं बल्लेबाज इंग्लैंड द्वारा रखे गए मजबूत स्कोर को हासिल नहीं कर पाए थे. टीम इंडिया ने दूसरा वनडे 86 रनों से गंवाया और सीरीज़ 1-1 की बराबरी पर आ खड़ी हुई.

मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज़ी:
टीम इंडिया के ओपनर रोहित शर्मा और शिखर धवन अच्छी फॉर्म में नज़र आ रहे हैं. लेकिन दूसरे मैच में मिडिल ऑर्डर भारत के लिए चिंता बनकर सामने आया है. कप्तान विराट कोहली और सुरेश रैना को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज विकेट पर खड़े रहने का साहस नहीं दिखा सका था. अंत में महेंद्र सिंह धोनी अकेले रह गए थे और टीम मैच हार गई थी. हालांकि दूसरे मैच में रोहित शर्मा, लोकेश राहुल और हार्दिक पांड्या का बल्ला भी खामोश रहा था.

गेंदबाज़ी में दिखानी होगी धार:
जसप्रीत बुमराह का पूरी सीरीज़ से बाहर होना और उसके बाद भुवनेश्वर कुमार की चोट भी टीम इंडिया के लिए मुश्किलें लेकर आई है. हालांकि ऐसी उम्मीद है कि आज भुवी मैच में वापसी करेंगे लेकिन इसका फैसला मैच से ठीक पहले टेस्ट के बाद होगा. वहीं गेंदबाजी में कुलदीप यादव ने अपनी गेंदों से विरोधी टीम का सिरदर्द बढ़ाकर रखा है. उन्होंने अब तक दोनों मैचों में कुल 9 विकेट चटकाए हैं और टीम की जीत के सूत्रधार बने हैं.
वहीं तेज गेंदबाजों ने निराश किया है. सिद्धार्थ कौल दो मैचों में पूरी तरह से बेअसर साबित हुए हैं.

दूसरी तरफ मजबूत है इंग्लैंड की टीम:
इंग्लैंड की बात की जाए तो उसने दूसरे मैच में अपने प्रदर्शन से बता दिया है कि वह बिना किसी तैयारी के नहीं उतरती. इंग्लैंड की बल्लेबाजी जेसन रॉय, जॉनी बेयर्सटो, कप्तान इयोन मोर्गन, जोए रूट और बेन स्टोक्स के दम पर है.

दूसरे मैच से पहले रूट की फॉर्म पर कई सवाल उठ रहे थे जिसे उन्होंने शतक लगाकर दफना दिया.इनके अलावा अंत में इंग्लैंड के पास मोइन अली और डेविड विले जैसे हरफनमौला खिलाड़ी हैं.

गेंदबाजी में इंग्लैंड के स्पिनरों अली और आदिल राशिद ने बढ़िया काम किया था. वहीं तेज गेंदबाज लियाम प्लंकट, मार्क वुड और विले भी प्रभावशाली रहे थे.

टीमें:
भारत: विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), दिनेश कार्तिक, सुरेश रैना, हार्दिक पांड्या, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, श्रेयस अय्यर, सिद्धार्थ कौल, अक्षर पटेल, उमेश यादव, शर्दूल ठाकुर और भुवनेश्वर कुमार.

इंग्लैंड: इयोन मोर्गन (कप्तान), जेसन रॉय, जॉनी बेयर्सटो, जोस बटलर (विकेटकीपर), मोइन अली, जोए रूट, जैक बाल, टॉम कुरैन, एलेक्स हेल्स, लियाम प्लंकट, बेन स्टोक्स, आदिल राशिद, डेविड विले, मार्क वुड.