इस्लामाबाद: क्रिकेटर ने नेता बने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान और विवादों का तो मानो चोली-दामन का साथ है. पाकिस्तान में आज वोटिंग हो रही है. इन चुनावों में इमरान खान की पार्टी भी चुनाव लड़ रही है. इमरान खान जैसे ही अपना वोट डालकर मतदान केंद्र से बाहर आए, मीडिया ने उन्हें घेर लिया. पीटीआई के प्रमुख ने भी मौके का फायदा उठाते हुए मीडिया में लंबे-चौड़े बयान दे डाले. चुनाव आयोग ने इमरान द्वारा मीडिया से बात करने की घटना को आचार संहिता का उल्लंघन माना है. आयोग ने इस बात पर उन्हें नोटिस भी भेजा जा रहा है.

पाकिस्तान निर्वाचन आयोग ने बुधवार को 11वें आम चुनाव में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शाहबाज शरीफ के वोट डालने के बाद मीडिया को संबोधित करने पर संज्ञान लिया है. आयोग ने इस आचरण को 'आचार संहिता का उल्लंघन' बताया है.

निर्वाचन आयोग के प्रवक्ता नदीम कासिम ने कहा कि मतदान करने के बाद भाषण देने वाले और ऑन कैमरा मतदान करने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है. कासिम ने कहा कि हो सकता है कि उनका वोट खारिज नहीं किया जा सकता लेकिन निर्वाचन आयोग के कानून के तहत उन्हें इसके परिणाम बुगतने पड़ सकते हैं.

निर्वाचन आयोग ने टीवी चैनलों को भी उम्मीदवारों के मीडिया संबोधन का सीधा प्रसारण नहीं करने के निर्देश दिए हैं. निर्वाचन आयोग ने पीएमएल-एन नेता और पूर्व विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ के सियालकोट में वोट डालने के बाद प्रेस वार्ता पर संज्ञान लिया है.

इससे एक दिन पहले पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक प्राधिकरण ने कई समाचार चैनलों द्वारा उनके चुनाव के सीधे प्रसारण के लिए उम्मीदवारों को आमंत्रित करने हेतु कारण बताओ नोटिस जारी किया था. चैनल के प्रतिनिधियों को लिखित जवाब देने और साथ ही निजी सुनवाई के लिए 31 जुलाई तक पेश होने के लिए कहा गया है.