पीवी सिंधु और किदांबी श्रीकांत ने विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के प्री-क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई, लेकिन वर्ल्ड नंबर-11 एचएस प्रणॉय को ब्राजील के इगोर कोल्हो के हाथों हार का सामना करना पड़ा.

ओलंपिक रजत पदक विजेता सिंधु ने इंडोनेशिया की फितरियानी को 21-14, 21-9 से पराजित किया. पिछले साल रजत पदक जीतने वाली इस 23 वर्षीय भारतीय खिलाड़ी को पहले दौर में बाई मिली थी. वह अगले दौर में कोरिया की सुंग जी ह्यून से भिड़ेंगी, जो 2015 की विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता हैं.

पांचवीं वरीयता प्राप्त श्रीकांत ने स्पेन के पाबलो एबियन को तीन गेम्स तक चले मैच में 21-15, 12-21, 21-14 से हराया. पिछले साल चार खिताब जीतने वाले श्रीकांत का सामना अब मलेशिया के डैरेन ल्यू से होगा, जिन्होंने 2012 में फ्रेंच ओपन सुपर सीरीज जीती थी.

बीसाई प्रणीत भी अगले दौर में पहुंच गए हैं. उन्होंने स्पेन के लुई एनरिक पेनालवर को 21-18, 21-11 से हराया. अब उन्हें डेनमार्क के हैंस क्रिस्टियन सोलबर्ग विटिंगस का सामना करना है.

एक अन्य मैच में प्रणॉय ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन वह इसे बरकरार नहीं रख पाए और विश्व में 39वीं रैंकिंग के कोल्हो से 21-8, 16-21, 15-21 से हार गए.

भारत के युगल खिलाड़ियों के लिए भी बुधवार का दिन अच्छा नहीं रहा और सभी को हार झेलनी पड़ी. राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता सात्विकसाईराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी डेनमार्क की विश्व में नंबर आठ जोड़ी किम एस्ट्रुप और एंडर्स सकारूप रासमुसन से 18-21, 21-15, 16-21 से हार गई.

अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी के पास युकी फुकुशिमा और सयाका हिरोता की दूसरी वरीयता प्राप्त जोड़ी का कोई जवाब नहीं था, भारतीय जोड़ी ने यह मैच 14-21, 15-21 से गंवाया.

राष्ट्रीय चैंपियन मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी की जोड़ी ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन आखिर में वे पुरुष युगल में जापान के ताकुतो इनोउ और युकी कानेको से 24-22 13-21 16-21 से हार गए.