नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की ओर से लोकसभा में बुधवार को डोकलाम के संदर्भ में दिए बयान को लेकर कांग्रेस ने नरेंद्र मोदी सरकार पर इस मामले में देश को गुमराह करने का आरोप लगाया. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह भी दावा किया कि दक्षिणी डोकलाम क्षेत्र में चीन की ओर से किये जा रहे सैन्य ढांचे और सड़क के निर्माण पर प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री ने चुप्पी साध ली है.

दरअसल, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने लोकसभा में बुधवार को कहा कि डोकलाम मुद्दा ‘परिपक्व कूटनीति' के माध्यम से सुलझाया जा चुका है और इसके बाद से संबंधित क्षेत्र में यथास्थिति बरकरार है.

सुरजेवाला ने एक बयान जारी कर कहा, 'दक्षिणी डोकलाम क्षेत्र में चीन की ओर से किये जा रहे सैन्य ढांचे और सड़क के निर्माण पर प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री ने चुप्पी साधे रखी. स्वराज ने डोकलाम में भारतीय सैन्य चौकी से महज 10 मीटर की दूरी पर चीन के सैन्य परिसर के निर्माण पर कुछ नहीं कहा.'

उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री मोदी चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से ब्रिक्स शिखर बैठक से इतर मिले. चार महीने के भीतर दोनों की तीसरी शिखर स्तरीय बैठक थी. निराशाजनक बात यह है कि मोदी सरकार डोकलाम गतिरोध के संदर्भ में आई उन खबरों पर तार्किक प्रतिक्रिया भी नहीं दे सकी जिनमें कहा गया है कि भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता हुआ है और सामरिक हितों के लिये खतरा पैदा हुआ है.'

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए सिर्फ राजनीतिक बयानबाजी की और उत्तरी एवं दक्षिणी डोकलाम में चीनी सैन्य निर्माण के बारे में कुछ स्पष्ट नहीं किया.