बिश्केक: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज रक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के तौर तरीकों पर किर्गिस्तान के शीर्ष नेताओं के साथ चर्चा करने के लिए दो दिवसीय यात्रा पर यहां पहुंचीं. कजाखस्तान की अपनी यात्रा के बाद वह पूर्वी किर्गिस्तान के इस्स्यक कुल में पहुंचीं.

किर्गिस्तान के विदेश मंत्री इर्लान अब्दीलदेव ने उनकी अगवानी की. सुषमा स्वराज संसाधन समृद्ध मध्य एशियाई देशों के साथ रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने के भारत के प्रयास के तहत कजाखस्तान, किर्गिस्तान और उज्बेकिस्तान की यात्रा पर हैं. किर्गिस्तान में वह विदेश मंत्री अब्दीलदेव तथा किर्गिज गणतंत्र के नेतृत्व के साथ वार्ता करेंगी.

भारत और किर्गिस्तान के बीच राजनीति, संसद, रक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एवं स्वास्थ्य समेत बहुआयामी संबंध है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया,‘‘भारत का किर्गिस्तान के साथ घनिष्ठ संबंध है जो प्राचीन रेशम मार्ग का हिस्सा था. ’’

एक सरकारी बयान के अनुसार जुलाई, 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तथा दिसंबर 2016 में किर्गिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति की द्विपक्षीय यात्रा तथा शंघाई सहयोग संगठन के सम्मेलनों के मौकों पर द्विपक्षीय संवाद से दोनों देशों का आपसी पारंपरिक मधुर एवं घनिष्ठ संबंध और मजबूत हुआ.