इंदौर स्थित कमला नेहरू चिड़ियाघर में कथित तौर पर लकवे से पीड़ित बब्बर शेर की इलाज के दौरान आज मौत हो गयी. वह 14 माह का था.

चिड़ियाघर के प्रभारी उत्तम यादव ने संवाददाताओं को बताया कि सुल्तान नाम के बब्बर शेर को तीन दिन पहले लकवा मार गया था. इससे उसके दोनों पिछले पैर बेकार हो गये थे.

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, लकवाग्रस्त बब्बर शेर पिछले दो दिनों से खाना भी नहीं खा रहा था. पशु चिकित्सकों की कोशिशों के बाद भी उसकी जान नहीं बचाई जा सकी.

यादव ने बताया कि नियमों के मुताबिक सरकारी पशु चिकित्सकों द्वारा सुल्तान के शव का पोस्टमॉर्टम किया गया. फिर उसके शरीर को आग के हवाले कर दिया गया. उसकी मौत का वास्तविक कारण पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चल सकेगा.

उन्होंने बताया कि एशियाई सिंह प्रजाति के सुल्तान का जन्म स्थानीय चिड़ियाघर में ही हुआ था. उसकी मौत के बाद चिड़ियाघर में अब 11 बब्बर शेर बचे हैं जिनमें से चार मादाएं हैं.