नई दिल्‍ली : मोदी सरकार आज संशोधनों के साथ राज्‍यसभा में तीन तलाक बिल पेश करने वाली है. सरकार का पूरा जोर इस बिल को संसद में पास कराने को लेकर है. ऐसे में राज्‍यसभा की कार्यवाही से पहले संसद में बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं की बैठक भी हुई, जिसमें बिल पास कराने को लेकर रणनीति बनाई गई. इसमें राजनाथ सिंह, अमित शाह, मुख्‍तार अब्‍बास नकवी सरीखे बड़े नेता शामिल रहे. वहीं कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई ने एक विवादित बयान दे दिया, जिस पर विवाद पैदा हो गया.

कांग्रेसी सांसद ने कहा, 'महिलाओं से सभी समुदायों में गलत तरीके से व्यवहार किया जाता है.. न केवल मुस्लिम, यहां तक कि हिंदू, ईसाई, सिख आदि में भी. हर समाज में पुरुष वर्चस्व है. यहां तक की श्रीराम ने भी संदेह के चलते सीता जी को छोड़ दिया था. तो हमें पूरी तरह से बदलने की जरूरत है'.

Women treated unfairly in all communities, not just Muslims, even Hindus, Christians, Sikhs etc. In every society, there is male domination. Even Shree Ram Chandra ji once left Sita ji after doubting her. So we need to change as a whole: Hussain Dalwai, Congress #TripleTalaqBill pic.twitter.com/dpuh0c3Jyu

— ANI (@ANI) August 10, 2018

बीजेपी ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की और उनके इस बयान की निंदा की. बीजेपी नेताओं ने उन पर कार्रवाई की भी मांग की है.

उल्‍लेखनीय है कि आज संसद के मॉनसून सत्र का आखिरी दिन है और मोदी सरकार संशोधन के साथ तीन तलाक बिल राज्यसभा में पेश करेगी. सरकार का पूरा जोर इस बात पर है कि इस बिल को उच्‍च सदन से भी मंजूरी मिल जाए. लिहाजा, भाजपा ने अपने सभी सांसदों को सदन में मौजूद रहने के लिए व्हिप जारी किया है. हालांकि विपक्ष इस बिल को पास कराने की राह में रोड़ा अटकाने की पूरी तैयारी में है. कांग्रेस का कहना है कि सरकार ने इस मसले पर विपक्ष से सलाह-मशविरा नहीं किया. इस वजह से आज राज्‍यसभा में हंगामे के आसार है.

आपको बता दें कि इससे पहले गुरुवार को सरकार ने मुस्लिमों में तीन तलाक से जुड़े प्रस्तावित कानून में आरोपी को सुनवाई से पहले जमानत जैसे कुछ संरक्षणात्मक प्रावधानों को मंजूरी दे दी थी.