लखनऊ: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद में योगी सरकार लखनऊ में मेडिकल यूनिवर्सिटी खोलने की तैयारी कर रही है. इससे जुड़ा प्रस्ताव संबंधित विभाग के अधिकारी कर रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को योगी कैबिनेट की बैठक होने वाली है. संभावना है कि कैबिनेट बैठक में इस प्रस्ताव पर मुहर लग जाए. अटल बिहारी वाजपेयी का लखनऊ शहर से पुराना रिश्ता रहा है. लखनऊ से वे कई बार सांसद रह चुके हैं. एक बार की घटना है, जब अटल बिहारी वाजपेयी से पूछा गया था कि आप कहां के रहने वाले हैं. उन्होंने जवाब दिया था मैं लखनऊ का हूं. बता दें, योगी सरकार ने उनकी स्मृति में भव्य स्मारक बनाने का फैसला किया है. वहां पर उनकी मूर्ति लगाई जाएगी.

वाजपेयी बलरामपुर से पहली बार सांसुद चुने गए थे. जानकारी के मुताबिक, बलरामपुर में KGMU (किंग्स जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी) का सेटेलाइट सेंटर भी खोलने की योजना है. पूर्व प्रधानमंत्री ने कानपुर यूनिवर्सिटी के DAV कॉलेज से उच्च शिक्षा ली थी. ऐसे में यहां सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाने की तैयारी है. इसके अलावा सरकार विभागों से अटल स्मृति में अन्य क्षेत्रों के लिए प्रस्ताव मांगेगी.

बता दें, योगी सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि अटल बिहारी के नाम पर प्रदेश में चार स्मारकें बनवाई जाएंगी. यूपी में ये सभी स्‍मारक अटल जी की कर्मभूमि वाले शहरों में बनवाए जाने की योजना है. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ इस पर विचार कर रहे हैं. यूपी सरकार की ओर से जिन शहरों में ये स्‍मारक बनाए जाने की योजना है उनमें आगरा का बटेश्‍वर, कानपुर, बलरामपुर और लखनऊ शामिल हैं. अटल जी ने कानपुर में अपनी पढ़ाई की थी. बलरामपुर से वह पहली बार लोकसभा पहुंचे थे. वहीं लखनऊ उनकी कर्मभूमि रही है.

इसके अलावा, अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां 21 अगस्त को लखनऊ लाई जाएंगी. 21 अगस्त को विशेष विमान से अटल बिहारी वाजपेयी के 20 अस्थि कलश को लाया जाएगा. अस्थि कलशों को प्रदेश की सभी नदियों में प्रवाहित किया जाएगा.