तेहरान: ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने कहा कि यूरोप ने अभी तक यह नहीं दिखाया है कि परमाणु समझौता बचाने के लिए वह अमेरिका की अवहेलना करने की ‘‘कीमत चुकाने का’’ इच्छुक है. जरीफ ने कहा कि यूरोप की सरकारों ने नवम्बर में अमेरिकी प्रतिबंधों के दूसरे चरण के बाद ईरान के साथ तेल और बैंकिंग संबंध कायम करने के प्रस्ताव रखे थे. उन्होंने ईरान की ‘यंग जर्नलिस्ट क्लब’ वेबसाइट से कहा कि यह पहल ‘‘व्यावहारिक उपायों के बजाए उनके रूख का बयान ज्यादा प्रतीत होता’’ था. ’’ जरीफ ने कहा, ‘‘वे आगे बढ़ चुके हैं लेकिन हमारा मानना है कि यूरोप अभी तक (अमेरिका का वास्तव में विरोध करने का) मूल्य चुकाने के लिए तैयार नहीं है. ’’ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 2015 में हुए परमाणु समझौतों से मई में हाथ खींच लिए थे.

उन्होंने इस महीने की शुरुआत में फिर से प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं जो दूसरे देशों को ईरान के साथ व्यापार करने से रोकता है.

ईरान ने US की आलोचना की, कहा- उसे 'प्रतिबंध लगाने और धौंस दिखाने की लत' लग गई है
ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने तुर्की और अमेरिका के बीच बढ़ते विवाद में कूदते हुए आज वाशिंगटन पर आरोप लगाया कि उसे ‘‘प्रतिबंध लगाने और धौंस दिखाने की लत’’ लग गयी है . अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का अपने नाटो सहयोगी तुर्की पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए जाने पर उत्साहित होना ‘शर्मनाक’ है. उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका को प्रतिबंधों और धमकाने की लत से मुक्ति पानी चाहिये नहीं तो समूची दुनिया मौखिक निंदा से आगे बढ़कर उसे मजबूर करने के लिये एकजुट हो जाएगी’’. उन्होंने कहा, ‘‘हम पहले भी पड़ोसियों के साथ खड़े हुए हैं और अब भी ऐसा करेंगे. ’’ अमेरिकी पादरी एंड्रयू ब्रनसन को हिरासत में लिये जाने और अन्य मुद्दों को लेकर विवाद के बीच ट्रंप ने तुर्की पर इस्पात और अल्यूमीनियम पर प्रशुल्क दोगुना कर दिया था.  

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तुर्की से इस्पात एवं एल्युमीनियम के आयात पर शुल्क दोगुना करने की घोषणा की. ट्रंप ने यह कदम ऐसे समय में उठाया है जब तुर्की पहले ही आर्थिक संकट से गुजर रहा है और अमेरिका के साथ कूटनीतिक विवादों में उलझा हुआ है. ट्रंप ने ट्विटर पर कहा, ‘‘मैंने तुर्की के इस्पात और एल्युमिनीयम पर शुल्क दोगुना करने की अनुमति दे दी है. उनकी मुद्रा लीरा हमारे बेहद मजबूत डॉलर के मुकाबले तेजी से नीचे गिर रही है . ’’ उन्होंने कहा, ‘‘अभी तुर्की के साथ हमारे संबंध ठीक नहीं हैं. ’’

अमेरिका के साथ जारी विवाद शांत नहीं होने और यूरोपीय बैंकों द्वारा तुर्की को दिये कर्ज डूबने की आशंकाओं के बीच आज उसकी मुद्रा लीरा अमेरिकी डॉलर और यूरो के मुकाबले रिकॉर्ड निम्नतम स्तर पर आ गयी है .  यह डॉलर के मुकाबले सात प्रतिशत से अधिक गिर गयी है. तुर्की की मुद्रा आज डॉलर के मुकाबले 5.95 लीरा प्रति डॉलर पर रही.

यह एक ही दिन में आयी 7.5 प्रतिशत की गिरावट है. शुक्रवार को यूरो के मुकाबले लीरा 7.0 प्रतिशत गिरकर 6.8 लीरा प्रति यूरो पर आ गयी. इस वर्ष डॉलर और यूरो दोनों के मुकाबले लीरा मूल्य के आधार एक तिहाई से अधिक गिरा है. तुर्की की मुद्रा को घरेलू आर्थिक नीति और राजनीतिक परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है.  सरकारी टेलीविजन टीआरटी हैबर ने तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यब एर्दुआन के हवाले से कहा कि हम आर्थिक युद्ध नहीं हारेंगे.