उज्जैन : राज्य का प्रसिद्ध महाकाल मंदिर क्षेत्र 357 करोड़ स्र्पए से स्मार्ट बनेगा। इसकी ड्राइंग-डिजाइन तैयार हो गई है। उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी ने चारधाम मंदिर के पास जी प्लस-2 श्रेणी में 50 कमरों का स्कूल भवन बनाने का काम सबसे पहले हाथ में लिया है। निर्माण एजेंसी तय करने को कंपनी ने 28 अगस्त तक ऑनलाइन टेंडर आमंत्रित किए गए हैं।

उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ अवधेश शर्मा और कंसलटेंट फर्म आईपीई ग्लोबल लिमिटेड के प्रिंस अग्रवाल ने बताया कि 357 करोड़ स्र्पए का महाकाल मंदिर क्षेत्र विकास योजना बनाई है। कार्य की शुरुआत महाकाल मंदिर के समीप स्थित महाराजवाड़ा और सराफा कन्या हायर सेकंडरी स्कूल को शिफ्ट करने से होगी। इसके लिए चारधाम मंदिर के पास जी प्लस-2 श्रेणी का एक 50 कक्षों वाला स्कूल भवन बनाया जाएगा। यह भवन सालभर में बनाने की योजना है।

इसका वर्क ऑर्डर एजेंसी फिक्स कर 15 सितंबर तक जारी कर दिया जाएगा। अगले चरण में त्रिवेणी संग्रहालय के पास मल्टी लेवल पार्किंग बनाई जाएगी। इसके बाद मौजूदा महाराजवाड़ा स्कूल भवन की बिल्डिंग को म्यूजियम के रूप में तब्दील किया जाएगा। यहीं से महाकाल मंदिर में प्रवेश के लिए वैकल्पिक मार्ग भी बनाया जाएगा।

वर्तमान में नगर निगम त्रिवेणी संग्रहालय से चारधाम मंदिर तक बना 12 मीटर चौड़ा पहुंच मार्ग 24 मीटर चौड़ा बनवा रही है। निर्माण कार्य जारी है। इस मार्ग के एक तरफ दीवार पर उज्जैन से जुड़े प्राचीन दृश्य एवं महाकाल ज्योतिर्लिंग, शिव की प्रतिमां उकेरी जाएंगी। ये दीवार सेल्फी पाइंट के रूप में पहचान बनाएगी।