मॉस्कोः रूस सरकार ने रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाने का फैसला किया  है। यहां की संसद के निचले सदन  में 21 अगस्त से  इस विधेयक पर कार्यवाही शुरू होगी। सरकार के सदस्य, रूसी क्षेत्रों और गणराज्य के विधायी और कार्यकारी अधिकारियों के प्रतिनिधियों, नागरिक समाज संस्थानों और विशेषज्ञों के भी सुनवाई में भाग लेने की उम्मीद है। हालांकि, इस बिल का देशभर में विरोध भी हो रहा है।

 मीडिया  के मुताबिक, इससे पहले ऊपरी सदन में 19 जुलाई को यह सुधार बिल पास किया जा चुका है। रूस की सरकार रिटायरमेंट की उम्र को पुरुषों के लिए 60 से बढ़ाकर 65 और महिलाओं के लिए 55 से बढ़ाकर 63 करना चाहती है। पुरुषों की रिटायरमेंट उम्र 2028 तक बढ़ाई जाएगी तो वहीं महिलाओं की 2034 तक। दरअसल, सरकार का कहना है कि देश की अर्थव्यवस्था के विकास को बढ़ावा देने के लिए पेंशन सुधारों की जरूरत है।

प्रदर्शनकारियों का दावा है कि अगर रिटायरमेंट उम्र बढ़ा दी जाती है तो रूस के हर नागरिक से 10 लाख रुबल यानी 16 हजार डॉलर अतिरिक्त वसूले जाएंगे। एक विवाद यह भी है कि पेंशन पेमेंट भी मामूली इजाफा किया जाएगा। मौजूदा समय में औसतन 230 डॉलर प्रति महीने पेंशन दी जाती है।