वाशिंगटनः अमरीका में मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक एेसा सिस्टम विकसित किया है जो कि फेक न्यूज को ऑटोमेटिक तरीके से फिल्टर करेगा। एल्गोरिदम-आधारित इस सिस्टम के जरिए फेक न्यूज को पहचान कर इस पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी।

शोधकर्ताओं का कहना है कि इस तरह फेक न्यूज का पता लगाना मनुष्यों की तुलना में काफी बेहतर है। हाल ही के एक अध्ययन में 70 प्रतिशत की मानव सफलता दर की तुलना में, एल्गोरिदम-आधारित प्रणाली 76 प्रतिशत तक सफल रही है।

इसके अलावा फेक न्यूज की पहचान के लिए भाषाई विश्लेषण दृष्टिकोण का उपयोग किया जा सकता है जो कि अन्य कहानियों के साथ अपने तथ्यों की तुलना करके फेक न्यूज का भंडाफोड़ करेगा। मिशिगन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर रडा मिहालसी ने कहा कि एक स्वचालित समाधान उन साइटों के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण हो सकता है जो फेक न्यूज से निपटने की कोशिश कर रहे हैं। इन फेक न्यूज का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा क्लिक प्राप्त करने या सार्वजनिक राय के हेर-फेर के लिए किया जाता है।

फेक न्यूज का पता लगाना मुश्किल होता है, क्योंकि सोशल मीडिया साइट फेक न्यूज का पता लगाने के लिए मानव संपादकों पर निर्भर करती हैं, जो अक्सर खबरों के प्रवाह के अनुसार फेक न्यूज का अनुमान लगाते हैं। इसके अलावा, वर्तमान तकनीक अक्सर तथ्यों के बाहरी सत्यापन पर निर्भर करती है, जो नई खबरों के साथ मुश्किल हो सकती है। अक्सर, जब तक ये पता चलता है कि खबर झूठी है, तब तक नुकसान हो चुका होता है।

क्या है एल्गोरिदम
ये कंप्यूटर का एक अदृश्य लेकिन आवश्यक प्रोग्राम होता है, जिसे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में आ रही समस्याओं के समाधान के लिए तैयार किया जाता है। विशाल डेटाबेस में कंटेंट की फिल्टरिंग का काम करने के लिए एल्गोरिदम की जरूरत पड़ती है। ये हमारे गूगल सर्च, हमारे फेसबुक फीड को भी संचालित करते हैं साथ ही कभी-कभी अनचाहे विषयसामग्रियों (हिंसा, पोर्नोग्राफी, नस्लवादी कंटेंट) को भी सेंसर करते हैं।