जूनागढ़ : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि यदि ‘स्वच्छ भारत’ जैसा कार्यक्रम 70 साल पहले शुरू किया गया होता, तो देश अब तक रोग मुक्त हो गया होता। मोदी ने विपक्ष को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि इन कार्यक्रमों को लेकर उनका मजाक उड़ाया जाता है, जबकि इन कार्यक्रमों का लक्ष्य स्वस्थ राष्ट्र बनाना है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता अभियान के चलते भारत में तीन लाख बच्चों की जान बची।

मोदी ने गुजरात के जूनागढ़ जिला में एक जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा, ‘डब्ल्यूएचओ की एक हालिया रिपोर्ट में यह कहा गया है कि स्वच्छता के चलते भारत में तीन लाख बच्चों को मरने से बचाया जा सका। स्वच्छता अभियान सीधे तौर पर स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है।’ उन्होंने गुजरात मेडिकल एंड एजुकेशन रिसर्च सोसाइटी के एक नव निर्मित अस्पताल सहित विभिन्न परियोजनाओं का उदघाटन करने के बाद यह कहा। मोदी ने कहा, ‘जब मैं स्वच्छता के बारे में बात करता हूं तब वे (विपक्ष) मेरा मजाक उड़ाया करते हैं।’ वे लोग कहते हैं कि क्या शौचालय बनाना, कूड़ा साफ करना प्रधानमंत्री का काम है? उन्होंने कहा कि यदि ये सभी काम 70 साल से किए गए होते तो देश अब तक रोग मुक्त हो गया होता।

उन्होंने कहा कि देश को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) बनाने की ओर ले जाना स्वास्थ्य के प्रति सबसे बड़ा कदम है। मोदी ने कहा कि एक कार्यक्रम शुरू किया गया है जिसके तहत हर तीन संसदीय क्षेत्रों के लिए एक मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल होगा। बाद में, जैसे - जैसे कार्यक्रम आगे बढ़ेगा, इन संसदीय क्षेत्रों की संख्या घटा कर दो और फिर एक कर दी जाएगी। उन्होंने कहा, ‘अंत में हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल होगा।’ प्रधानमंत्री एक दिन के दौरे पर गुरुवार सुबह गुजरात पहुंचे और वलसाड रवाना हुए, जहां प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के लाभाॢथयों ने सामूहिक गृह प्रवेश किया।