नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के रायबरेली की सदर सीट से विधायक अदिति सिंह को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है. राहुल ने उन्हें अखिल भारतीय महिला कांग्रेस में महासचिव नियुक्त किया गया है. अदिति सिंह दो माह पहले उस समय सुर्खियों में आईं थी जब राहुल गांधी के साथ उनकी शादी की अफवाह ने सोशल मीडिया पर जोर पकड़ लिया था. बाद में अदिति सिंह ने इस खबर को झूठा करार दिया था और कहा था कि राहुल गांधी उनके राखी वाले भाई हैं. अदिति ने यह भी कहा था कि राहुल गांधी और उनके बीच काफी पुराने पारिवारिक संबंध हैं. ये जो तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर वारयल हो रही हैं, ये पारिवारिक मुलाकातों का हिस्‍सा मात्र हैं.

अदिति सिंह रायबरेली सदर सीट से पांच बार विधायक रहे अखिलेश सिंह की बेटी हैं. उन्होंने अपना राजनीति सफर 2017 में कांग्रेस के टिकट पर शुरू किया था. उन्हें प्रियंका गांधी वाड्रा का करीबी माना जाता है. अदिति ने अमेरिका की ड्यूक यूनिवर्सिटी से मैनेजमेंट की पढ़ाई की है. उन्‍होंने 2017 में अपने पहले ही चुनाव में अपने करीबी प्रतिद्वंद्वी को 90 हजार वोटों से हराया था.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात के ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर सहित नौ नए नेताओं को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) में सचिव पद पर नियुक्त किया. इन नेताओं को अलग-अलग राज्यों का प्रभारी सचिव भी बनाया गया है. एआईसीसी के नवनियुक्त सचिवों में शकील अहमद खान, राजेश धमानी, बी.पी. सिंह, मोहम्मद जावेद और शरत राउत भी शामिल हैं। खान को जम्मू-कश्मीर और धमानी को उत्तराखंड मामलों का प्रभारी सचिव बनाया गया है। जबकि सिंह, जावेद और राउत तीनों को पश्चिम बंगाल के लिए सचिव बनाया गया.

पिछड़ा वर्ग के नेता अल्पेश ठाकोर को बिहार जबकि चल्ला वामशी चंद रेड्डी और बी.एम. संदीप दोनों को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी सौंपी गई है. राहुल ने हिमाचल प्रदेश के रहने वाले दीपक राठौड़ और उत्तराखंड के राजपाल बिष्ट को मिजोरम के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का सदस्य नियुक्त किया है. पूर्व विधान पार्षद संजय दत्त को तमिलनाडु मामलों का प्रभारी सचिव बनाया गया है. पिछले साल के अंत में कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालने के बाद से राहुल ने पार्टी में कई पदों पर युवाओं को नियुक्त कर अहम जिम्मेदारियां सौंपी है.