संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने सभी देशों से अपील की है कि वह यह सुनिश्चित करें कि उनके देशों में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को करारी हार का सामना करना पड़े. राजदूत ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे देशों के साथ अमेरिका अपना सहयोग बढ़ाएगा और इस दिशा में मजबूत ताकत बना रहेगा. उन्होंने सुरक्षा परिषद में कल बताया कि इस आतंकवादी समूह की विचारधारा विश्व के नए-नए स्थानों पर अपना पैर पसार रही है.  यह एक ऐसा दुश्मन है जो अपने आपको किसी भी स्थान पर ढाल रहा है.

हेली ने देशों से अपील की है कि वह चतुराई के साथ इस्लामिक स्टेट को करारी हार दें और ऐसे संघर्ष क्षेत्रों को समाप्त करें जहां चरमपंथी समूहों को पलने-बढ़ने का मौका मिलता है. उन्होंने कहा, ' संयुक्त राष्ट्र आईएसआईएस और तालिबान के खिलाफ लड़ाई में मजबूत ताकत बनी रहेगी.'

कुख्यात आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट का सरगना अबू बकर अल बगदादी की कथित नई ऑडियो रिकॉर्डिंग में उसने मुस्लिम समुदाय से ‘‘जिहाद’’ छेड़ने का आह्वान किया है. ईद अल-अजहा के मौके पर टेलीग्राम संदेश में बगदादी पश्चिमी देशों में हमलों का आह्वान भी कर रहा है. बगदादी का यह कथित ऑडियो तब आया है जब इस आतंकी संगठन को इराक और सीरिया के ज्यादातर हिस्सों से खदेड़ा जा चुका है. गत वर्ष सितंबर के बाद से आईएस सरगना की यह पहली रिकॉर्डिंग बताई जा रही है.

बगदादी ने कहा, ‘‘जो लोग अपने दुश्मनों के खिलाफ अपना धर्म, धैर्य, जिहाद भूल चुके हैं और अल्लाह के वादे में उनका यकीन खो चुका है और वह बेआबरू हो चुके हैं, लेकिन वे इस पर चलते हैं तो वे शक्तिशाली और विजयी हैं यहां तक कि एक निश्चित समय के बाद भी.’’ आईएस ने 2014 में सीरिया और इराक के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया था और अपने आप को इन इलाकों का ‘‘खलीफा’’ घोषित किया था, लेकिन अब वह दोनों ही देशों में ज्यादातर हिस्सों से खदेड़ा जा चुका है.

बगदादी ने रिकॉर्डिंग में पश्चिम एशिया, एशिया और अफ्रीका में अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘अल्लाह की रहमत से खलीफा बना रहेगा.’’ अभी यह स्पष्ट नहीं है कि यह संदेश कब रिकॉर्ड किया गया, लेकिन बगदादी सीरिया के उत्तर पूर्वी हिस्से के पुनर्निर्माण के लिए गत सप्ताह सऊदी अरब द्वारा 10 करोड़ डॉलर दिए जाने की आलोचना करता दिखाई दिया.

उसने अमेरिका और रूस को धमकी देते हुए कहा कि जिहादियों ने उनके लिए ‘‘भयावहता’’ की तैयारी की है. रूस और अमेरिका आईएस के खिलाफ हमलों का समर्थन करते हैं. आईएस सरगना आखिरी बार जुलाई 2014 में इराक के दूसरे बड़े शहर मोसुल में सार्वजनिक तौर पर दिखाई दिया था. बगदादी को कई बार मृत घोषित किया गया, लेकिन एक इराकी खुफिया अधिकारी ने मई में बताया कि वह अब भी जिंदा है और सीरिया में रह रहा है.