मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नई दिल्ली म्युनिसिपल काउंसिल (एनडीएमसी) एरिया के निवासियों के लिए 10 करोड़ रुपये के एक सिटीजन फंड की घोषणा की है. सरकार का दावा है कि यह राशि स्थानीय निवासियों की इच्छा के मुताबिक खर्च की जाएगी.

एनडीएमसी एरिया के अलग-अलग आरडब्ल्यूए के निवासी खुद फैसला ले सकेंगे कि इस बजट से उन्हें क्या-क्या काम कराने हैं.

मुख्यमंत्री हाउस पर 80 से ज्यादा आरडब्ल्यूए के सदस्यों और एनडीएमसी अधिकारियों की बैठक बुलाई गई थी. इस दौरान अरविंद केजरीवाल ने घोषणा करते हुए कहा कि एनडीएमसी बजट में सिटीजन फंड के लिए 10 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है. 10 करोड़ के बजट के साथ हम इस साल यह प्रयोग करने जा रहे हैं और पहले साल के नतीजों को देखने के बाद हम इस राशि को बढ़ा सकते हैं. तमाम आरडब्ल्यूए के बीच इस राशि का बंटवारा एनडीएमसी इलाकों में बने घरों की संख्या के आधार पर किया जाएगा.

बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि ये राशि किस तरह खर्च की जाएगी. बैठक में तय हुआ कि आरडब्ल्यूए की जनरल बॉडी फैसला लेगी कि क्षेत्र में कौन-कौन से काम कराए जाने चाहिए. जनरल बॉडी मीटिंग को बुलाने से पहले सभी निवासियों और एनडीएमसी को सूचित करना होगा.

एनडीएमसी इस मीटिंग के लिए अपने प्रतिनिधि को नियुक्त करेगी. साथ ही बैठक की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाएगी.

मुख्यमंत्री ऑफिस के मुताबिक बैठक के दौरान ये चर्चा की जाएगी कि क्षेत्र में कौन-कौन से काम होने चाहिए. उन कामों की एक लिस्ट तैयार की जाएगी. इसके बाद उन कामों की प्राथमिकता तय करने के लिए वोटिंग कराई जाएगी. ये प्राथमिकता सूची एनडीएमसी को भेजी जाएगी जो विभिन्न कामों की रुपरेखा तैयार करवाएगी और स्थानीय निवासियों द्वारा तय की गई प्राथमिकता के आधार पर विभिन्न विकास कार्यों को करवाएगी.