हैदराबाद : तेलंगाना में जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आते जा रहे हैं कांग्रेस और सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति के बीच तल्खी बढ़ती जा रही है. दोनों पार्टियां एक नए मामले को लेकर आमने-सामने हैं. इस विवाद की शुरुआत तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष एन. उत्तम कुमार रेड्डी के उस बयान से शुरू हुई जिसमें उन्होंने राज्य के आईटी मंत्री व मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव के बेटे केटी रामा राव को राजनीति में 'बच्चा' कहा था. रेड्डी ने अपने बयान में यह भी कहा था कि मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव का परिवार को सार्वजनिक जीवन में रहने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि वह पिछले चार साल से भ्रष्टाचार में लिप्त हैं.

रेड्डी के इस बयान पर केटी रामा राव ने सोमवार को पलटवार करते हुए प्रदेश कांग्रेस और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा. राव ने कहा, "मैं 42 साल का हूं और पिछले एक दशक से राजनीति में हूं. मैंने 2006 में टीआरसी ज्वॉइन की थी और 2014 तक तेलंगाना के लिए आंदोलन चलाया. मैं मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव का बेटा जरूर हूं लेकिन मैंने जमीन पर काम किया है और तीन बार से विधायक हूं. कोई बैकडोर  एंट्री नहीं ली. लोगों ने मुझे वोट दिया है."  

राव ने आगे कहा, "अब अगर मैं बच्चा हूं मुझसे तीन साल बड़े राहुल गांधी (45) क्या हैं? भले ही मुझे मेरे पिता की वजह से चुना गया लेकिन उनके परिवार की राजनीति तो उनके परदादा मोतीलाल नेहरू से शुरू होती है. मैं आंदोलन में जेल गया हूं, क्या वह (राहुल) भी कभी गए हैं? राहुल गांधी के पास वंश के अलावा कोई योग्यता नहीं है."

राज्य में जल्द चुनाव कराने के मामले में राव ने कहा, "लोग हमारे पक्ष में वोट करने के लिए तैयार हैं. चुनाव चाहे जब भी कराए जाएं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. लोग हमें सौ प्रतिशत जिताएंगे. जब से हम सत्ता में आए हैं, हमने सभी उपचुनाव जीते हैं." राव ने समय से पहले चुनाव कराने के संकेत दिए. तेलंगाना में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव अगले साल एकसाथ होने हैं.