नई दिल्ली: टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले चुके टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इन दिनों अपने परिवार के साथ हिमाचल प्रदेश के शिमला में वक्त बिता रहे हैं. धोनी शिमला में एक विज्ञापन शूट के लिए हैं. शिमला से धोनी की कई तस्वीरें और वीडियोज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. धोनी के फैन्स जहां एक ओर उनके शिमला आने से खुश हैं, लेकिन वहीं धोनी को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच राजनीति शुरू हो गई है. धोनी को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के बीच 'सियासी घमासान' बना हुआ है. महेंद्र सिंह धोनी को 'राजकीय अतिथि' बनाए जाने और खर्चा उठाए जाने को लेकर काफी बवाल मच गया है.

दरअसल, महेंद्र सिंह धोनी शिमला में एक बैंक के विज्ञापन की शूटिंग कर रहे हैं. बता दें कि इस विज्ञापन में पंकज कपूर भी हैं. धोनी के साथ उनकी पत्नी साक्षी और बेटी भी शिमला गई हैं.

कांग्रेस ने धोनी को सरकार द्वारा स्टेट गेस्ट का दर्जा दिए जाने पर सवाल उठाए हैं. एक न्यूज चैनल से बातचीत में हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सिंह ने कहा, मैं भी धोनी का एक क्रिकेटर के तौर पर सम्मान करता हूं, लेकिन यह उनका निजी ट्रिप है और इसका खर्चा सरकार को नहीं उठाना चाहिए. अगर आप देश के सभी एथलीट्स को ऐसा ही सम्मान दे रहे हैं तो आप इस पर बहस कर सकते हैं, लेकिन मेरा यकीन है कि ऐसा नहीं है. देश के लिए नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर मेडल लाने वाले कई खिलाड़ी अक्सर हिमाचल दौरे पर आते हैं लेकिन उन्हें प्रदेश सरकार स्टेट गेस्ट का दर्जा नहीं देती.

कांग्रेस के इस आरोप के बाद हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अपनी सफाई दी है. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने विधानसभा में कहा कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ 'राजकीय अतिथि' की तरह बर्ताव किया जा रहा है लेकिन उनकी सरकार सुरक्षा के अलावा उन पर कोई राशि नहीं खर्च कर रही है.

विधानसभा में देहरा के विधायक होशियार सिंह ने इस मुद्दे पर चर्चा शुरू की. चर्चा का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ठाकुर ने कहा, ‘‘धोनी 27 से 31 अगस्त के बीच पांच दिनों के लिए शिमला में हैं और राज्य सरकार ने उन्हें पर्याप्त सुरक्षा मुहैया करायी है.’’ उन्होंने कहा कि धोनी एक विज्ञापन की शूटिंग के सिलसिले में शिमला में हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह स्पष्ट कर दूं कि यहां धोनी के ठहरने पर कोई राशि नहीं खर्च की गयी है, राज्य सरकार द्वारा उन्हें सिर्फ सुरक्षा मुहैया करायी गयी है तथा उनके जैसे मशहूर व्यक्ति के लिए यह आवश्यक है.’’इसके पहले विपक्ष ने आरोप लगाया था कि धोनी की यात्रा के लिए सरकारी खर्च किया गया है.