नई दिल्ली: पेट्रोल डीजल की कीमतों के बाद अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर आज एक और झटका लगा. डॉलर के मुकाबले रुपये के भाव में रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई है. आज एक डॉलर का भाव सबसे निचले स्तर पर पहुंच कर 71 रुपये हो गया. कांग्रेस सरकार पर अर्थव्यवस्था चौपट करने का आरोप लगा रही है तो वहीं बीजेपी कह रही है कि पूरी दुनिया में करेंसी के भाव गिर रहे हैं, इसी का असर भारत पर भी देखने को मिल रहा है.

विश्लेषकों के मुताबिक, विदेशी निधि के लगातार निकलने, वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों के अस्थिर होने से भारतीय रुपया नए निचले स्तर पर पहुंचा है. एक्सपर्ट्स की मानें तो आयातकों के महीने के अंत में अमेरिकी डॉलर की मांग व कच्चे तेल की कीमतों की वजह से रुपये की कीमत गिरी है.