नई दिल्लीः जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार बेगूसराय से कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के उम्मीदवार के तौर पर लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. महागठबंधन से आरजेडी कांग्रेस, जीतन राम मांझी की पार्टी हम और एनसीपी 2019 में कन्हैया कुमार को बेगूसराय से चुनाव लड़ने में सहयोग देगी.

सीपीआई के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह ने बताया कि उनकी पार्टी सहित सभी लेफ्ट पार्टियां चाहती हैं कि कन्हैया कुमार बेगूसराय से 2019 में लोकसभा चुनाव लड़ें. उन्होंने कहा कि आरजेडी और कांग्रेस जैसे अन्य दल भी चाहते हैं कि वह चुनाव लड़ें. आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के भी इस संबंध में अपनी सहमति दिए जाने की चर्चा के बारे में सत्यनारायण ने कहा कि पूर्व में उनसे हुई चर्चा के दौरान वह एक सीट कन्हैया कुमार के लिए छोड़ देने को लेकर राजी थे.

उन्होंने बताया कि उनकी पार्टी ने अगले आम चुनाव में बिहार में छह लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है लेकिन इस बारे में अंतिम फैसला हमख्याल दलों के साथ बातचीत के बाद लिया जाएगा. जिन छह सीटों पर सीपीआई अपना उम्मीदवार उतारना चाहती है, उनमें बेगूसराय, मधुबनी, मोतिहारी, खगड़िया, गया और बांका शामिल हैं.

यह पूछे जाने पर कि क्या कन्हैया कुमार ने बेगूसराय से चुनाव लड़ने को लेकर अपनी सहमति दी है तो सत्यनारायण ने कहा कि इसके लिए वह राजी हैं. उन्होंने कहा कि हालांकि कन्हैया बेगूसराय से सीपीआई के उम्मीदवार होंगे पर महागठबंधन के घटक दलों आरजेडी कांग्रेस, हम सेक्युलर और एनसीपी और अन्य लेफ्ट पार्टियों का उन्हें समर्थन हासिल होगा.

कन्हैया बेगूसराय जिला के बरौनी प्रखंड अंतर्गत बिहट पंचायत के मूल निवासी हैं जबकि उनकी मां एक आंगनवाड़ी सेविका और उनके पिता एक छोटे किसान हैं. कभी वामपंथियों का गढ माने जाने वाले बेगूसराय से वर्तमान में सांसद बीजेपी के वरिष्ठ नेता भोला सिंह हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में आरजेडी उम्मीदवार तनवीर हसन दूसरे और सीपीआई उम्मीदवार राजेंद्र प्रसाद सिंह, जेडीयू के समर्थन से तीसरे स्थान पर रहे थे.