बिहार के मोतिहारी जिले में मानव तस्करी का बड़ा मामला सामने आया है. जहां ऑर्केस्ट्रा की आड़ में मानव तस्करी और देह व्यापार का धंधा किया जा रहा था. पुलिस ने तस्करों के अड्डे पर छापा मार कर 17 लड़कियों को मुक्त कराया है. साथ ही 12 मानव तस्कर भी पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं.

दरअसल, मुंबई की एक संस्था से नेपाल की दो लड़कियां गायब हो गईं थीं. तभी से प्रोजेक्ट कल्कि और जस्टिस वेंचर इंटरनेशनल नामक संस्था के स्वयंसेवी उन लड़कियों को तलाश कर रहे थे. इसी बीच उन्हें दोनों लड़कियों के बिहार के पूर्वी चम्पारण के तुरकौलिया इलाके में होने की सूचना मिली.

मुंबई की संस्थाओं ने इस संबंध में बिहार के डीजीपी से मदद मांगी. डीजीपी के निर्देश पर पूर्वी चंपारण जिले के पुलिस अधीक्षक ने सोमवार को इस मामले में एक्शन लिया. एसपी के निर्देश पर पुलिस की टीम ने तुरकौलिया के महनावा, जयसिंहपुर और बेलवा में छापेमारी की. इस दौरान पुलिस के साथ प्रोजेक्ट कल्कि एनजीओ के कर्मचारी भी थे.

इस इलाके में मन्नान मलिक नामक शख्स ऑर्केस्ट्रा चलाता था. आरोप है कि ऑर्केस्ट्रा में काम करने वाली लड़कियों से डांस के नाम पर देह व्यापार कराया जा रहा था. इस मामले में ऑर्केस्ट्रा संचालक मन्नान मलिक, उसकी पत्नी समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. वहां से 17 महिलाओं को मुक्त कराया गया है. जिनमें कई नाबालिग भी शामिल हैं.

पुलिस के मुताबिक मुक्त कराई गईं सभी लड़कियां देश के अलग-अलग राज्यों से हैं. इन्हें एजेंट के जरिये बहला फुसला कर लाया गया था. इनसे जबरन ऑर्केस्ट्रा में डांस कराया जाता था और फिर देह व्यापार में ढकेल दिया जाता था. अब डीएसपी मुरली मनोहर मांझी मुक्त कराई गई सभी लड़कियों से पूछताछ कर रहे हैं.