बेंगलुरू: कर्नाटक के शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में कांग्रेस को सोमवार को बीजेपी से कड़ी चुनौती मिली लेकिन सत्तारूढ़ गठबंधन में सहयोगी दल जेडीएस के साथ चुनाव के बाद किए गए गठबंधन के चलते वह स्थानीय निकाय में बहुमत में है. नतीजों से उत्साहित जेडीएस सुप्रीमो एचडी देवगौड़ा ने कहा कि वह कामयाब रहे. उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए जेडीएस और कांग्रेस गठबंधन आगे भी जारी रहेगा.  

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने जीत पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "शहर के मतदाता ज्यादातर बीजेपी को वोट देते हैं लेकिन अभी तक जो परिणाम सामने आए हैं. उसके मुताबिक उन्होंने भी इस बार जेडीएस-कांग्रेस की गठबंधन सरकार का पूरा समर्थन किया है.

राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक, शनिवार को हुए चुनावों में कांग्रेस को 982 सीटों पर जीत मिली और भाजपा के खाते में 910 सीटें आईं. अभी तक 2,709 में से 2,628 सीटों के नतीजे घोषित किए गए हैं. कांग्रेस और जेडीएस ने मिलकर 1,339 सीटें जीती हैं जिसके साथ उन्हें स्पष्ट तौर पर भाजपा पर बढ़त और यूएलबी की अधिकतम सीटों पर कब्जा मिल गया है. यह चुनाव कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार के लिए परीक्षा मानी जा रही थी. राज्य में तीन नगर निगमों, 29 नगर परिषदों, 52 शहरी नगर परिषदों और 20 शहरी पंचायतों के लिए चुनाव हुए. कोडागु में हाल में आई बाढ़ के कारण जिले के शहरी स्थानीय निकाय के लिए चुनाव स्थगित कर दिए गए थे. 22 जिलों में 10 में कांग्रेस ने कब्जा जमा लिया है.

We have succeeded. JDS and Congress will go together to keep BJP at a distance: Former PM HD Deve Gowda on #KarnatakaLocalBodyElection2018 pic.twitter.com/ZOgaEwrASc

— ANI (@ANI) September 3, 2018

निकाय चुनाव के नतीजे दिखाते हैं कि बीजेपी ने भी अपनी परंपरागत क्षेत्रों में बढ़िया प्रदर्शन किया है. वहीं कांग्रेस ने उत्तर कर्नाटक के जिलों में अपनी स्थिति और मजबूत की है. राज्य के उत्तरी भाग में स्थित विजयवाड़ा जिले में कांग्रेस और बीजेपी को 23-23 सीटें मिली हैं. जेडीएस को दो सीटें जबकि पांच सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों की मिली हैं. ऐसे में बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए कांग्रेस-जेडीएस मिलकर सरकार चलाएंगे. कांग्रेस-जेडीएस ने तय किया है कि वे निकाय चुनाव में परिणाम आने के बाद गठबंधन करेंगे.