नई दिल्‍ली: असम में बाढ़ से बुरा हाल है. 4 जिले पूरी तरह पानी में डूबे हुए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बुधवार को एक अप्रत्‍याशित घटना में नाव में सवार 45 लोगों के पानी में डूबने की आशंका है. ये लोग उत्‍तर गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र नदी पर नाव से जा रहे थे. पुलिस और राज्‍य आपदा रक्षा दल के सदस्‍य लोगों को बचाने में जुटे हैं. राहत कार्य तेजी से चल रहा है. बाढ़ से 12000 लोग प्रभावित हैं. ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं.

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की एक आधिकारिक रिपोर्ट में बताया गया कि धेमाजी, विश्वनाथ, गोलाघाट और शिवसागर जिलों में कुल 676 हेक्टेयर कृषि भूमि डूब गई है. राज्य में इस मौसम में तीसरे दौर की यह बाढ़ है. एएसडीएमए ने कहा कि नये दौर की बाढ़ में किसी के भी मरने की खबर नहीं है. पिछले दो दौर की बाढ़ में 50 लोगों की जान गई थी.

#Assam: A boat with about 45 passengers capsized in Brahmaputra river in North Guwahati. Police&SDRF teams have rushed to the spot. Rescue operation underway. pic.twitter.com/2Yh6S3X5or

— ANI (@ANI) September 5, 2018

बाढ़ में इन चार जिलों के 48 गांवों के 12 हजार 428 लोग प्रभावित हुए हैं. सबसे बुरी तरह प्रभावित धेमाजी जिले में 11 हजार 355 लोग प्रभावित हुए हैं. इसके बाद विश्वनाथ में 390, शिवसागर में 350, गोलाघाट में 333 लोग प्रभावित हैं. इसमें कहा गया है कि विश्वनाथ और गोलाघाट जिलों में दो राहत शिविर स्थापित किये गए हैं. केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) की रिपोर्ट के अनुसार ब्रह्मपुत्र नदी जोरहाट में निमाटीघाट, गोलाघाट के धनसीरी और सोणितपुर जिले में एन टी रोड क्रॉसिंग पर जिया भराली में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.