भोपाल: केंद्र की मोदी सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए एससी/एक्ट कानून में संशोधन के खिलाफ सवर्णों की तरफ से बुलाए गए भारत बंद का असर देश समेत मध्यप्रदेश मे देखने को मिल रहा है। एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध में 35 संगठनों ने भारत बंद का ऐलान किया है। बंद को देखते हुए सबसे ज्यादा सतर्कता मध्यप्रदेश में बरती जा रही है। यहां 10 जिलों में धारा 144 लगा दी गई है और 35 जिलों को हाई अलर्ट जारी किया गया है।

मद्यप्रदेश में सवर्ण एक्ट का पूरी तरह से विरोध कर रहे हैं। जिसके चलते उन्होंने नया नारा दिया है। ‘जोशी, आडवाणी सोटा में, अटल बिहारी जी लोटा में, नौकरी प्रोमोशन कोटा में, वोट पड़ेगा नोटा में’।मध्य प्रदेश में पिछली बार हुई भारी हिंसा को देखते हुए सुरक्षा का भारी बंदोबस्त किए गए हैं। प्रदेश पुलिस के मुताबिक, एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर राज्य के 35 जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है।

अलर्ट पर रखे गए 35 जिलों की सुरक्षा के लिए यहां सुरक्षाबलों की 34 कंपनियां और 5000 सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है। इसके साथ ही 10 कई जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है।

सीएम शिवराज ने जनता से अपील करते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश शांति का टापू है। यह फले-फूले और आगे बढ़े, यही सबसे प्रार्थना है। प्रदेश की शांति को किसी की नजर न लगे, इसलिए आत्मीयता व सद्भाव बढ़ाएं। मैं सबके लिए हूं। प्रदेश के हर नागरिक के लिए दिल का द्वार खुला हुआ है। आप सबसे प्रार्थना है कि मिलकर व प्रेम से काम करें। कोई बात है तो शांति से कहें, ताकि अपने प्रदेश की कानून व्यवस्था न बिगड़े।

बंद और अलर्ट को देखते हुए प्रदेश के गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने सबसे शांति और संयम बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा की हर समस्या का हल शांति और बातचीत से निकल सकता है।

इंदौर में सवर्णों के भारत बंद में व्यापारी भी साथ दे रहे हैं। इंदौर समेत संभाग के 35 जिलों में हाई अलर्ट है। स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी गई है। इंदौर में 50 से ज्यादा संगठनों ने बंद को समर्थन दिया है। अहिल्या चैंबर ऑफ कॉमर्स सहित व्यापारिक संगठन भी बंद में शामिल हैं। प्रशासन ने सबसे शांतिपूर्ण बंद की अपील की है।

एक्ट के विरोध में ग्वालियर में बाजार बंद है और किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस लगातार फ्लैग मार्च कर रही है। जिले में सुरक्षा को देखते हुए सभी के शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं, हर जगह ड्रोन कैमरे से नजर रखी जा रही है। ग्वालियर-चंबल संभाग सहित मालवा में भी कहीं-कहीं प्रदर्शन होते रहे।

खरगोन में सपाक्स समेत 30 संगठनों द्वारा एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में बुलाए गए भारत बंद का व्यापक असर नजर आया। सुबह खुलने वाले चाय-नाश्ते की दुकानें बंद नज़र आईं। वहीं, निजी स्कूल संचलकों ने अपने स्तर से निर्णय लकेर सुरक्षा की दृष्टि से छुट्टी घोषित कर दी।

टीकमगढ़ में बीजेपी नेता प्रह्लाद पटेल को एससी-एसटी एक्ट के विरोध में काले झंडे दिखाए गए। सपाक्स कार्यकर्ताओं ने बीजेपी की बैठक के दौरान प्रह्लाद पटेल को काले झंडे दिखाए।

भिंड जिला में एक्ट के विरोध को लेकर बाजार पूरी तरह से बंद है। हर जगह पुलिस तैनात है। लोगों ने अपनी दुकानों के बाहर पोस्टर लगाएं हैं जिन पर लिखा है ‘मैं सामान्य वर्ग का हूं, दुकानें अपनी स्वेछा से बंद रखूंगा’। सुरक्षा को देखते हुए पुलिस पेट्रोलिंग के वहानों से नजर रख रही है। वहीं, जिले के स्कूलों में छुट्टी कर दी गई है। यहां सवर्ण समाज के सैकड़ों युवकों ने रैली निकालकर प्रदर्शन किया।

जबलपुर में बंद को लेकर प्रशासन अलर्ट है। यहां एक हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। बिना अनुमति के रैली और आम सभा पर रोक रहेगी। हंगामा करने वाले उपद्रवियों के खिलाफ विधि संगत कार्यवाही की जाएगी।

गुना में बार एसोसिएशन ने बंद को समर्थन दिया है। गुना, मुरैना में पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला। शिवपुरी में सभी शासकीय-अशासकीय स्कूल, कॉलेज की छुट्टी कर दी गयी है। कलेक्टर शिल्पा गुप्ता ने आदेश जारी किया है। यहां व्यवसायियों ने बाजार बंद का ऐलान किया है।

बड़वानी में भी बंद का असर देखने को मिला। यहां बाजार बंद हैं और सब्जी मंडी भी पूरी तरह से बंद है।श्योपुर में एससीएसटी एक्ट के विरोध में बंद को लेकर पुलिस चौकन्नी है। सभी दुकानें बंद हैं। यहां भी सपाक्स की रैली है।