मुंबई : महाराष्ट्र प्रदेश महिला आयोग ने भाजपा विधायक राम कदम को उनकी उस कथित टिप्पणी पर नोटिस जारी कर आठ दिन में जवाब मांगा है जिसमें उन्होंने युवाओं से कहा था कि अगर उनकी पसंद की लड़की उनका प्रस्ताव स्वीकार नहीं करती तब वह उसका ‘अपहरण’ कर लेते. विधायक ने अपनी विवादास्पद टिप्पणी पर गुरूवार को माफी मांगी है. यह टिप्पणी उन्होंने सोमवार रात अपने उपनगरीय घाटकोपर विधानसभा क्षेत्र में ‘दही हांडी’ कार्यक्रम के दौरान की थी.

प्रदेश महिला आयोग ने विधायक की टिप्पणी को लेकर विभिन्न रिपोर्टो पर स्वत: संज्ञान लेते हुए बुधवार को नोटिस जारी किया था. आयोग की अध्यक्ष विजया रत्नाकर ने बताया, ‘‘हमने कदम को नोटिस जारी किया है और आठ दिन की अवधि के भीतर अपना पक्ष रखने को कहा है.’’ वहीं, कदम ने अपनी उस टिप्पणी के लिए माफी मांगी है जिससे ‘महिलाओं की भावनायें आहत’ हुई हैं. माफी के संबंध में उन्होंने मराठी में ट्वीट किया है.

उधर, भाजपा की केंद्र और प्रदेश में गठबंधन सहयोगी शिवसेना और महाराष्ट्र में विपक्षी दलों ने कदम के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है और उनकी तुलना रावण से की है. विपक्ष ने चेतावनी दी है कि यदि विधायक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जायेगी तो यह मामला प्रदेश विधानसभा के शीत सत्र के दौरान उठाया जायेगा. हालांकि, भाजपा प्रदेश प्रवक्ता माधव भंडारी ने कहा कि विधायक द्वारा माफी मांगे जाने के बाद मामला समाप्त हो गया है.