लंदन : इंग्लैंड के कप्तान जो रूट का कहना है कि वह भारत के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट में जीत दर्ज कर एलिस्टर कुक को परफेक्ट विदाई देना चाहते हैं और साथ ही यह जीत दुनिया को एक मजबूत संकेत देगी. कप्तान रूट ने कहा कि कुक ने उन्हें साउथम्पटन में ही अपने संन्यास लेने के फैसले के बारे में बता दिया था और यह पांचवें टेस्ट के दौरान यह उनके लिए ध्यान भंग वाला नहीं होगा. उन्होंने कहा, ''यह उसके लिए और उसके साथ काफी क्रिकेट खेलने वालों के लिए भावनाओं से भरा हफ्ता होगा. हमारे ड्रेसिंग रूम में उनकी काफी कमी खलेगी. लेकिन मैं रोमांचित हूं कि उन्हें इस खेल का लुत्फ उठाने का मौका मिला.''

उन्होंने अंतिम टेस्ट की पूर्व संध्या पर कहा, ''मेरा पूरा ध्यान इस बात को सुनिश्चित करने पर होगा कि हम इस मैच को जीत लें. दुनिया की नंबर एक टीम को हराना और 4-1 से जीत दर्ज करना बतौर टीम दुनिया के सामने एक ठोस संकेत होगा. यह गर्मियेां का सत्र मुश्किल परिस्थितियों में हमारे लिए शानदार रहेगा.''

कप्तान जो रूट ने कहा कि कुक अपने संन्यास वाले दिन को ज्यादा तवज्जो नहीं देना चाहते. उन्होंने कहा, ''हम कुछ भी रणनीति बनाकर नहीं चल रहे हैं लेकिन मुझे पूरा भरोसा है कि हम बेहतर करेंगे. यह मैदान, यह मौका और इसमें शामिल सारे खिलाड़ी हमें यह हासिल करने में मदद करेंगे.

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक ने कहा है कि टीम साथियों को संन्यास के बारे में बताते समय वह काफी भावुक हो गए थे और रोने लगे थे. उन्होंने कहा कि वह संन्यास के फैसले पर पिछले छह महीने से विचार कर रहे थे. सलामी बल्लेबाज कुक ने साउथम्पटन में भारत के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में 60 रन की जीत के बाद ऐलान किया था कि वह सीरीज के पांचवें और आखिरी टेस्ट के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे.

बीबीसी ने कुक के हवाले से लिखा, "अब मैं मानसिक फुर्ती खो चुका हूं. मैं हमेशा मानसिक रूप से मजबूत रहा हूं लेकिन अब मेरी मानसिक फुर्ती कम हो रही है और फिर से उस फुर्ती को पाना काफी मुश्किल है." कुक ने कहा, "टीम साथियों को अपने संन्यास की खबर बताते समय मेरे पास काफी बीयर थे. अगर ये मेरे पास नहीं होते तो मैं और ज्यादा रोता. संन्यास की खबर बताने के बाद टीम साथी चुप थे. तभी मोइन अली ने कुछ कहा और सब हंसने लगे."