नई दिल्ली: बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी कार्यकारिणी की बैठक में 2019 में अजेय रहने का आह्वान किया. कार्यकारिणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य वरिष्ठ नेता शाम चार बजे के बाद जुटेंगे. उससे पहले कार्यकारिणी के एजेंडे को अंतिम रूप देने के लिये चल रही पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से अपील की कि बीजेपी 2019 में पार्टी 2014 से भी ज्यादा प्रचंड बहुमत से सत्ता में वापसी करेगी. प्रचंड जीत के लिए उन्होंने मौजूद नेताओं को संकल्प दिलाकर कार्यकरिणी के मूड और रणनीति का खाका सामने रखा.

"There has been an attempt to create confusion regarding SC/ST issue, but that won't cause any impact on 2019 elections", says BJP President Amit Shah at BJP office bearers meeting (Sources) (file pic) #Delhi pic.twitter.com/gArXQDM6lH

— ANI (@ANI) September 8, 2018

अमित शाह ने ये भी कहा कि 3 राज्यों के विधानसभा चुनाव के अलावा तेलंगाना पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा. जाहिर है मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में सत्ता में वापसी की जद्दोजहद में लगी पार्टी के लिये राह आसान नहीं दिख रहा. खासकर सत्ता विरोधी लहर और एससी/एसटी एक्ट के मुद्दे पर हो रहे विवाद और बवाल को देखते हुए राह कठिन दिख रहे हैं. माना जा रहा है कि कार्यकारिणी में इस मुद्दे पर भी गहन चर्चा हो सकती है. साथ ही ये रणनीति बनाने की कोशिश होगी की पारंपरिक वोट (उच्च जातियां) साथ रहे. OBC को पाले में बनाये रखा जाये और SC/ST वर्ग भी दूर न हो.

अमित शाह ने पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में ये भी कहा कि हमारे पास दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता हैं. सरकार की उपलब्धियां भी ऐसी है कि जो 70 साल में किसी सरकार की नहीं रही. इन उपलब्धियों को घर-घर पहुंचाने का काम संगठन को है. बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक दिल्ली के आंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में हो रही है. आंबेडकर सेंटर में कार्यकारिणी की बैठक कर पार्टी SC\ST वर्ग को सन्देश भी दे रही है कि बाबा साहेब के बताये रास्ते पर सरकार और संगठन चलने का संकल्प लिए हुए है. साथ ही सबका साथ सबका विकास उसी नीति का प्रमुख हिस्सा है

शनिवार शाम 4 बजे बैठक पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के अध्यक्षीय भाषण से कार्यकारिणी की बैठक विधिवत शुरू होगी. रविवार यानी 9 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन भाषण से शाम को कार्यकारिणी का समापन होगा. बैठक में वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह, मुरली मनोहर जोशी, सुषमा, जेटली सहित कार्यकारिणी के सदस्य शामिल होंगे. सभी राज्यो के पार्टी अध्यक्ष, पार्टी के सभी मुख्ययमंत्री, उपमुख्यमंत्री और संगठन से जुड़े सदस्य भी बैठक में शिरकत करेंगे. बैठक में सरकार की उपलब्धियों, आगामी विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव पर मंथन होगा.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पिछली बैठक से अब तक की प्रमुख गतिविधियों और कार्यक्रमों की जानकारी और संगठनात्मक विषयों पर भी चर्चा होगी. इसके अलावा राजनीतिक एवं आर्थिक प्रस्तावों पर चर्चा होगी और आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा तय की जाएगी.  

बैठक में केंद्र की उपलब्धियों पर प्रमुखता से चर्चा की जाएगी. पार्टी के सूत्रों का कहना है कि बैठक में हर राज्य के अध्यक्षों के तरफ राज्य का रिपोर्ट कार्ड पेश किया जाएगा और लोकसभा चुनावों की तैयारी पर भी बैठक में चर्चा की जाएगी. इसके अलावा बैठक में सरकार की उपलब्धियों, खासकर बुनियादी ढांचे के विकास, दो करोड़ ग्रामीण आवास, उज्ज्वला गैस कनेक्शन, खुले में शौच मुक्त गांव, विद्युतीकरण और इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में हुई बढ़ोतरी पर चर्चा होगी.

पिछले दिनों असम में NRC लागू की गई है. पार्टी इसको भुनाने की तैयारी में है. राष्ट्रीय कार्यकारिणी में पार्टी एनआरसी को लेकर भी बड़े पैमाने पर चर्चा करने जा रही है. बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को न सिर्फ श्रद्धांजलि दी जा रही है, बल्कि आंबेडकर सेंटर में चारो तरफ उनकी तस्वीर लगाकर कार्यकर्ताओ को संदेश दिया जा रहा है कि अपने जनप्रिय नेता, उनके नेतृत्व और उनकी नीतियों को पार्टी सदा याद रखेगी.